उत्तराखंड सरकार ने राजाजी टाइगर रिजर्व संरक्षण फाउंडेशन की स्थापना की

उत्तराखंड सरकार ने राजाजी टाइगर रिजर्व और उसके आसपास पारिस्थितिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक विकास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राजाजी टाइगर रिजर्व संरक्षण फाउंडेशन की स्थापना की घोषणा की है। यह निर्णय मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक के दौरान किया गया।

फाउंडेशन के उद्देश्य

  1. पर्यावरण संरक्षण: यह फाउंडेशन राजाजी टाइगर रिजर्व में और उसके आसपास प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा, जैव विविधता के संरक्षण और क्षेत्र के पारिस्थितिक संतुलन को बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित करेगा।
  2. वैकल्पिक आजीविका: इसका उद्देश्य स्थानीय समुदायों को वन संसाधनों पर निर्भरता कम करके वैकल्पिक आजीविका के अवसर प्रदान करना है।
  3. इको-टूरिज्म: यह फाउंडेशन क्षेत्र में इको-टूरिज्म को बढ़ावा देगा, जिससे स्थानीय समुदायों को रिजर्व की प्राकृतिक सुंदरता को संरक्षित करते हुए पर्यटन गतिविधियों से आर्थिक लाभ मिल सकेगा।
  4. मानव-वन्यजीव संघर्ष: मानव-वन्यजीव संघर्ष को संबोधित करना प्राथमिकता होगी, वन्यजीवों और स्थानीय निवासियों दोनों की सुरक्षा और भलाई सुनिश्चित करना  इसका मुख्य उद्देश्य होगा।

सरलीकृत पर्यटन नीति

मंत्रिमंडल ने राज्य की पर्यटन नीति में संशोधन कर इसे एकल खिड़की प्रणाली के माध्यम से लागू करने का भी निर्णय लिया। इस कदम का उद्देश्य व्यवसायों के लिए प्रक्रियाओं को सरल बनाना, व्यवसाय करने में आसानी को बढ़ावा देना और पर्यटन क्षेत्र में निवेश आकर्षित करना है।

मुनि की रेती-ढालवाला उन्नयन

पर्यटकों, योग प्रेमियों और साहसिक खेल प्रेमियों के बीच इसकी लोकप्रियता के कारण मुनि की रेती-ढालवाला नगर परिषद को श्रेणी-2 से श्रेणी-1 में अपग्रेड किया जाएगा। इस उन्नयन से क्षेत्र में पर्यटन संबंधी बुनियादी ढांचे और सेवाओं में वृद्धि होने की उम्मीद है।

Categories:

Tags: , ,

Advertisement

Comments