गल्फ स्ट्रीम सिस्टम (Gulf Stream System) क्या है?

एक नए अध्ययन से पता चलता है कि गल्फ स्ट्रीम प्रणाली, जिसे अमोक (Amoc – Atlantic Meridional Overturning Circulation) के रूप में जाना जाता है, 2025 की शुरुआत में ध्वस्त हो सकती है। अमोक पृथ्वी की जलवायु प्रणाली में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, गर्म समुद्र के पानी को उत्तर की ओर ले जाता है और अटलांटिक की धाराओं को चलाता है।

अमोक और इसकी भेद्यता 

अमोक उन महत्वपूर्ण समुद्री धाराओं को संदर्भित करता है जो गर्म पानी को ध्रुव की ओर ले जाती हैं, जहां यह ठंडा होता है और डूब जाता है, जिससे पूरे अटलांटिक का परिसंचरण प्रभावित होता है। शोधकर्ताओं ने नोट किया है कि अमोक वर्तमान में 1,600 वर्षों में सबसे कमजोर स्थिति में है, जिसका मुख्य कारण वैश्विक तापन है। 

अमोक के पतन का अनुमानित समयमान

अध्ययन में अमोक के पतन के लिए एक महत्वपूर्ण समयसीमा का अनुमान लगाया गया है, जो 2025 से 2095 तक है। केंद्रीय अनुमान 2050 तक एक गंभीर परिदृश्य की ओर इशारा करता है, अगर वैश्विक कार्बन उत्सर्जन बेरोकटोक जारी रहता है। पिछले पतन के दौरान, कुछ दशकों की अवधि में लगभग 10 डिग्री सेल्सियस के तापमान में उतार-चढ़ाव देखा गया था, लेकिन यह ध्यान रखना आवश्यक है कि ये घटनाएं हिमयुग के दौरान हुईं।

अमोक के पतन के परिणाम

अमोक के संभावित पतन का वैश्विक जलवायु पर विनाशकारी प्रभाव पड़ेगा। भारत, दक्षिण अमेरिका और पश्चिम अफ्रीका जैसे क्षेत्रों में वर्षा पैटर्न में व्यवधान होने की संभावना है, जिससे अरबों लोग प्रभावित होंगे जो अपनी खाद्य आपूर्ति के लिए इस बारिश पर निर्भर हैं। इसके अलावा, यूरोप में तूफान और ठंडे तापमान में वृद्धि होगी, जबकि उत्तरी अमेरिका के पूर्वी तट पर समुद्र के स्तर में वृद्धि का सामना करना पड़ेगा। अमेज़ॅन वर्षावन और अंटार्कटिक बर्फ की चादरें भी बढ़ते खतरों का सामना करेंगी।

Categories:

Tags: , , , ,

Advertisement

Comments