जी.सी. मुर्मू को OPCW ने बाहरी लेखा परीक्षक के रूप में चुना गया

जी.सी. मुर्मू (G.C. Murmu) को रासायनिक हथियार के निषेध संगठन (OPCW – Organisation for Prohibition of Chemical Weapons) के बाहरी लेखा परीक्षक के रूप में चुना गया है।

मुख्य बिंदु

  • जी.सी. मुर्मू वर्तमान में भारत के CAG  के रूप में सेवारत हैं। उन्हें रासायनिक हथियारों के निषेध के लिए संगठन के बाहरी लेखा परीक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है। वह तीन साल के लिए बाहरी लेखा परीक्षक के रूप में OPCW में काम करेंगे।
  • इसके अलावा, भारत को दो वर्षों के लिए एशिया क्षेत्र में OPCW की कार्यकारी परिषद के सदस्य राज्य के रूप में चुना गया था।

जी.सी. मुर्मू (G.C. Murmu)

  • वह गुजरात कैडर के 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।
  • उन्हें 2020 में भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक के रूप में नियुक्त किया गया था।
  • उन्होंने 2019 में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल के रूप में भी काम किया था। वह जम्मू और कश्मीर के पहले उपराज्यपाल थे।
  • उन्होंने श्री नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शासनकाल के दौरान उनके के प्रधान सचिव के रूप में भी कार्य किया।
  • इन सेवाओं के अलावा, उन्होंने विश्व खाद्य कार्यक्रम, अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी, विश्व बौद्धिक संपदा संगठन, संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन, अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन के बाहरी लेखा परीक्षक के रूप में कार्य किया है।

OPCW (रासायनिक हथियारों का निषेध संगठन)

  • रासायनिक हथियारों के निषेध संगठन में 193 सदस्य राष्ट्र हैं।
  • यह एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो एक रासायनिक हथियार मुक्त दुनिया को प्राप्त करने के लिए काम कर रहा है।
  • OPCW हेग, नीदरलैंड में बेस्ड है।
  • इसकी स्थापना 1997 में हुई थी।
  • रासायनिक हथियार सम्मेलन (Chemical Weapons Convention) OPCW द्वारा कार्यान्वित किया जाता है।इस सम्मेलन का उद्देश्य रासायनिक हथियारों के विकास, अधिग्रहण, संग्रहण और रासायनिक हथियारों के उपयोग को रोककर उन्हें नष्ट करना है।
  • भारत रासायनिक हथियारों के निषेध के लिए संगठन का सदस्य है।

Categories:

Tags: , , , ,

Advertisement

Comments