प्राचीन भारत

प्राचीन भारतीय इतिहास : 17 – महाजनपद

प्राचीन भारत में अस्तित्व में रही विशाल राज्यों को महाजनपद कहा जाता है। इनका उदय उत्तर वैदिक काल में हुआ। जैन तथा बौद्ध ग्रंथों से इनकी जानकारी मिलती है। इस दौरान विशाल संगठित राज्यों का उदय हुआ। इस काल में बौद्ध और जैन धर्मों की स्थापना हुई। इन महाजनपदों की संख्या 16 थी। बौद्ध ग्रन्थ

प्राचीन भारतीय इतिहास : 16 – भारत पर सिकंदर का आक्रमण

भारत पर सबसे पहले ईरानी शासकों ने आक्रमण आरम्भ किये। भारत पर प्रथम विदेशी आक्रमण ईरान के हखमनी वंश के राजाओं ने किया था। इस वंश के संस्थापक सायरस ने भारत पर आक्रमण का असफल प्रयास किया था। ईरान के अकेमेनियन शासक डेरिअस प्रथम ने 516 ईसा पूर्व में भारत पर आक्रमण किया। इसके अभिलेखों

प्राचीन भारतीय इतिहास : 15 – मगध साम्राज्य

मगध के उत्थान के कारण मगध प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों में से एक था। यह आधुनिक बिहार राज्य के पटना और गया जिले में फैला हुआ था। महाजनपदों में मगध, कोसल, वत्स एवं अवन्ती सबसे अधिक शक्तिशाली राज्य थे। धीरे-धीर मगध ने अन्य तीन महाजनपदों को पराजित करके अपने साम्राज्य में मिला लिया। इसकी

प्राचीन भारतीय इतिहास : 14 – बौद्ध साहित्य

हीनयान सम्प्रदाय साहित्य बौद्ध धर्म से सम्बंधित ग्रन्थ व पुस्तकें प्राचीन काल से लिखी जानी प्रारम्भ हुई थी। छठवीं शताब्दी में बौद्ध धर्म के उदय के पश्चात् ही बौद्ध धर्म व दर्शन पर ग्रंथों की रचना की जाने लगी। यह ग्रन्थ अथवा धार्मिक पुस्तकें भारत के प्राचीन इतिहास की जानकारी प्राप्त करने के लिए अत्यंत

प्राचीन भारतीय इतिहास : 13 – बौद्ध धर्म का उदय

बौद्ध धर्म की स्थापना छठवीं शताब्दी में गौतम बुद्ध द्वारा की गयी थी। बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में नेपाल के लुम्बिनी में हुआ था। उनकी मृत्यु 483 ईसा पूर्व में भारत में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में हुई थी। आरम्भ में बौद्ध धर्म का प्रचार भारत के विभिन्न हिस्सों में हुआ। भारत के

2 / 512345