केंद्र सरकार ने DBT ट्राइबल वेब पोर्टल लांच किया

केन्द्रीय जनजातीय मामले मंत्रालय ने हाल ही में DBT (Direct Benefit Transfer) ट्राइबल वेब पोर्टल लांच किया, इसका उद्देश्य लाभार्थी छात्रों को छात्रवृत्ति जारी करके राशि को सीधे उनके बैंक खाते में हस्तांतरित करना है।

DBT ट्राइबल वेब पोर्टल

इस पोर्टल के माध्यम से राज्यों को एकल प्लेटफार्म मिलेगा जहाँ पर लाभार्थियों का डाटा अपलोड किया जा सकती है। इस पोर्टल पर पूछताछ भी की जा सकती है तथा फीडबैक भी दी जा सकती है। इस पोर्टल में लाभार्थी के डाटा संग्रहण के लिए 29 कॉलम हैं। यह पोर्टल आधार तथा सार्वजनिक वित्तीय प्रबंधन प्रणाली से जुड़ा हुआ है, इससे नकली प्रविष्ठियां नहीं की जा सकेंगी।

इस पोर्टल में सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा डाटा अपलोड किया जाना अनिवार्य है। इससे केंद्र सरकार को जानकारी मिल सकेगी कि किस राज्य, जिले ब्लाक अथवा स्कूल लाभार्थियों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है।

पृष्ठभूमि

केन्द्रीय जनजातीय मामले मंत्रालय अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए उत्थान के लिए कई योजनायें चला रहा है। इनमे से कुछ प्रमुख योजनायें निम्नलिखित हैं :

दो प्रमुख छात्रवृत्ति योजनायें : यह दो योजनायें हैं : प्री-मेट्रिक तथा पोस्ट-मेट्रिक शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति। इनका क्रियान्वयन राज्यों के माध्यम से किया जाता है।

उच्च शिक्षा : उच्च शिक्षा के लिए 246 प्रतिष्ठित संस्थानों जैसे IIT, आईआईएम इत्यादि में “टॉप क्लास एजुकेशन फॉर एस.टी. स्टूडेंट्स” योजना चलायी जा रही है, इससे प्रतिवर्ष लगभग 1000 छात्र लाभान्वित होते हैं।

एम.फिल व पीएचडी कार्यक्रम : केंद्र सरकार 750 लाभार्थियों के लिए राष्ट्रीय फ़ेलोशिप योजना चला रही है।

विदेश में शिक्षा : जो जनजातीय छात्र विदेश में उच्च शिक्षा प्राप्त करने चाहते हैं, उनके लिए भी केंद्र सरकार द्वारा छात्रवृत्ति योजना चलायी जा रही है, इस योजना का लाभ प्रतिवर्ष 30 छात्र उठा सकते हैं।

कुल लाभार्थी : पिछले पांच वर्षों में उपरोक्त पांच योजनाओं से अब तक 1.58 करोड़ लाभार्थियों को 31 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेश में 7,900 करोड़ रुपये आबंटित किये जा चुके हैं।

Month:

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments

  • Raushan Kumar
    Reply

    Super