परम शिवाय सुपर कंप्यूटर के बारे में रोचक तथ्य

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में परम शिवाय सुपर कंप्यूटर को लांच किया, इसे IIT-BHU (बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय) में लांच किया गया है। इस कंप्यूटर की 40% क्षमता का उपयोग नवोदय विद्यालय के छात्रों द्वारा किया जायेगा।

भारत का पहला सुपरकंप्यूटर परम 8000 था, उसे 1991 में लांच किया गया था। वर्तमान में भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान में “प्रत्युष”, राष्ट्रीय मध्यम श्रेणी मौसम पूर्वानुमान केंद्र के पास “मिहिर” तथा IISc के पास SERC-Cray नामक सुपर कंप्यूटर हैं।

रोचक तथ्य

  • इसका निर्माण राष्ट्रीय सुपर कंप्यूटिंग मिशन के तहत 32.5 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है।
  • इस सुपर कंप्यूटर की क्षमता 833 टेराफ्लॉप है।
  • परम शिवाय में 1 पेटा बाइट सेकेंडरी स्टोरेज, 233 प्रोसेसर नोड, 384 GB पर नोड DDR4 RAM, पैरेलल फाइल सिस्टम इत्यादि हैं।
  • इस सुपर कंप्यूटर का उपयोग सिंचाई योजनाओं, ट्रैफिक प्रबंधन, स्वास्थ्य इत्यादि क्षेत्रों में किया जायेगा।
  • इस सुपर कंप्यूटर का निर्माण फ़्रांसिसी कंपनी Atos ने किया है। इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय के अंतर्गत सी-डैक तथा Atos ने सुपरकंप्यूटर के निर्माण के लिए तीन वर्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किये गये हैं।
  • इस सुपर कंप्यूटर का निर्माण राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन के तहत किया गया है। इस मिशन के तहत देश के विभिन्न अनुसन्धान व शैक्षणिक संस्थानों में 70 से अधिक सुपरकंप्यूटर का नेटवर्क तैयार किया जायेगा। इस मिशन  के तहत सात वर्षों के लिए 4500  करोड़ रुपये का बजट रखा गया है।

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments