प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया नमक सत्याग्रह स्मारक को राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के दांडी में नमक सत्याग्रह को राष्ट्र को समर्पित किया। गांधीजी ने 12 मार्च से 6 अप्रैल के बीच साबरमती से दांडी की यात्रा करके नमक कानून को तोड़ा था। इस स्मारक का आयोजन 30 जनवरी को महात्मा गाँधी की पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा किया गया।

राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक

राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक में दांडी यात्रा में भाग लेने वाले 80 लोगों की प्रतिमाएं हैं। इस स्मारक में गांधीजी के 18 फीट ऊँची मूर्ती बनाई गयी है। दांडी यात्रा से जुड़े 24 स्थानों का समृतिपथ बनाया गया है। इस स्मारक में 41 सोलर तरी बनाए गये हैं जो प्रतिदिन 144 किलोवाट बिजली का उत्पादन करेंगे, इस बिजली से स्मारक को आवश्यक विद्युत् आपूर्ति प्राप्त होगी। इस स्मारक का निर्माण 110 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है।

दांडी यात्रा

दांडी यात्रा अथवा नमक सत्याग्रह असहयोग आन्दोलन का हिस्सा था। इस यात्रा के तहत गाँधीजी तथा उनके अनुयायियों ने 12 मार्च, 1930 को साबरमती से यात्रा शुरू की, जो 6 अप्रैल, 1930 को दांडी में समाप्त हुई। इस यात्रा में गांधीजी ने लगभग 240 मील की पैदल यात्रा की थी। यह यात्रा गांधीजी ने नमक पर ब्रिटिश एकाधिकार के विरोध पर में की थी।

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments