प्राण वायु : आईआईटी रुड़की ने कम लागत वाला पोर्टेबल वेंटिलेटर विकसित किया

भारत में केवल 40,000 वेंटिलेटर के साथ, वेंटिलेटर की मांग दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है क्योंकि COVID-19 के मामलों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। इन मांगों को पूरा करने के लिए, IIT रुड़की ने “प्राण वायु” नामक कम लागत वाला पोर्टेबल वेंटिलेटर विकसित किया है।

मुख्य बिंदु

यह  पोर्टेबल वेंटिलेटर मॉडिफाइड रेलवे डिब्बों के लिए अत्यधिक अनुकूल हैं। अब तक 20,000 से अधिक कोचों को अस्पताल के बिस्तरों में बदल दिया गया है। बढ़ती मांग के साथ, लगभग 70 रेलवे कोचों को आइसोलेशन वार्डों में बदला जायेगा।

प्राण वायु

यह वेंटिलेटर प्राइम मूवर के नियंत्रित ऑपरेशन के आधार पर रोगी को वायु की आवश्यक मात्रा प्रदान करता है। यह दबाव को नियंत्रित करके साँस लेने और साँस छोड़ने की लाइनों में ऑक्सीजन की प्रवाह दर को नियंत्रित करता है। यह वेंटिलेटर सभी आयु समूहों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके डिजाइन का प्रमुख लाभ यह है कि इस  वेंटिलेटर का निर्माण कम समय में किया जा सकता है है। CII द्वारा आयोजित वेबिनार में 450 कंपनियों को वेंटिलेटर  का यह डिजाइन प्रस्तुत किया गया था।

Month: /

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments