भारतीय डाकघर बना पेमेंट बैंक

1 अप्रैल, 2018 से भारतीय डाकघर के पेमेंट बैंक ने अपनी सेवाएँ देना शुरू कर दी है। यह देश का एक वृहद् नेटवर्क के साथ सबसे बड़ा पेमेंट बैंक बन गया है। वर्तमान में देश में डेढ़ लाख से भी अधिक डाकघर हैं, अब डाकघर पेमेंट बैंक शाखा के रूप में कार्य करेंगे।

मुख्य तथ्य

o आरबीआई द्वारा 2015 में इंडिया पोस्ट को पेमेंट बैंक के रूप में कार्य करने की सैद्धांतिक मंज़ूरी प्रदान की गई।
o सामान्य बैंकों के मुकाबले पेमेंट बैंकों का संचालन थोड़ा अलग ढंग से किया जाता है। ये बैंक केवल जमा तथा विदेशों से भेजी जाने वाली विदेशी मुद्रा ही स्वीकार कर सकते हैं।
o इन्हें इंटरनेट बैंकिंग के साथ-साथ कुछ अन्य विशिष्ट सेवाएँ प्रदान करने का भी अधिकार प्रदान किया गया है।
o पेमेंट बैंक में कोई भी व्यक्ति या व्यावसायिक प्रतिष्ठान खाता खुलवा सकता है। महत्त्वपूर्ण बात यह है कि पेमेंट बैंक प्रत्येक खाताधारक से केवल एक लाख रुपए तक की जमा राशि ही स्वीकार कर सकते हैं।
o इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक 25 हज़ार रुपए तक की जमा पर 4.5% की दर से ब्याज अदा करता है। जबकि 25 हज़ार से 50 हज़ार रुपए की राशि पर ब्याज दर 5% और 50 हज़ार से एक लाख रुपए की जमा पर 5.5% है।
o ग्राहकों को ऋण के अलावा इस पैमेंट बैंक में लगभग सभी तरह की बैंकिंग सेवाएँ मुहैया कराई जाएंगी।

Month:

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments