भारत और चीन ने दोहरे कराधान बचाव समझौते पर हस्ताक्षर किये

भारत और चीन ने हाल ही में दोहरे कराधान बचाव समझौते पर हस्ताक्षर किये, इसका उद्देश्य कर चोरी की रोकथाम करना है। आयकर अधिनियम, 1961 के सेक्शन 90 के अनुसार भारत किसी अन्य देश के साथ दोहरे कराधान से बचाव के लिए समझौता कर सकता है।

मुख्य बिंदु

चीन के साथ दोहरे कराधान बचाव समझौते (DTAA) में संशोधन के चलते सूचना के आदान प्रदान करने के मानकों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर के मानकों के मुताबिक अपडेट किया गया है। समझौते के क्रियान्वयन के लिए आवश्यक बेस इरोजन एंड प्रॉफिट शिफ्टिंग (BEPS) प्रोजेक्ट के तहत यह बदलाव किये जाने आवश्यक है। सूचना के आदान प्रदान से भारत और चीन के बीच कर चोरी की घटनाओं में कमी होने के आसार हैं।

Month:

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments