भारत कोल एक्सचेंज की स्थापना करेगा

भारत जल्द ही कोल एक्सचेंज ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की स्थापना करेगा। भारत कोल एक्सचेंज प्लेटफॉर्म स्थापित करने के प्रस्ताव के अनुसार, देश में खनन किए गए पूरे कोयले का व्यापार “कोल एक्सचेंज” नामक एक सामान्य प्लेटफॉर्म किया जायेगा।

कोल एक्सचेंज क्यों महत्वपूर्ण है?

ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म को स्थापित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कोयला क्षेत्र में कई खरीदारों और विक्रेताओं के लिए मार्ग प्रशस्त करेगा। उल्लेखनीय है कि कोयला मंत्रालय 11 जून, 2020 को वाणिज्यिक कोयला खनन के लिए नीलामी शुरू करेगा।

पृष्ठभूमि

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की थी कि कोयला क्षेत्र में सरकार का एकाधिकार पूरी तरह से हटा दिया जाएगा। यह भारत में कोयले का उत्पादन बढ़ाने और आयातित कोयले की निर्भरता को कम करने के लिए किया जा रहा है। विश्व में तीसरा सबसे बड़ा कोयला भंडार रखने वाला भारत अभी भी कोयला आयात कर रहा है।

कोल एक्सचेंज

हालांकि भारत प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से बाजार तक पहुंच के लिए कोयला क्षेत्र को खोल रहा है, लेकिन कोयला क्षेत्र में कोल इंडिया प्रमुख भागीदार रहेगा।

Month:

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments