मध्य प्रदेश का बांचा गाँव बना भारत का प्रथम “सौर रसोई” वाला गाँव बना

बांचा गाँव मध्य प्रदेश के बेतुल जिले में स्थित है, दरअसल इस गाँव 75 घर हैं, इन सभी घरों में भोजन बनाने के लिए सौर उर्जा से चलने वाले चूल्हे उपयोग किये जाते हैं। इस गाँव में भोजन पकाने के लिए लकड़ी का उपयोग बिलकुल भी नहीं किया जाता है, एलपीजी सिलिंडर का उपयोग भी न के बराबर है। IIT मुंबई की टीम ने विशेष सौर चूल्हे को डिजाईन किया है। अब ग्रामीणों को भोजन पकाने के लिए पेड़ काटने की ज़रुरत नहीं पड़ेगी। गाँव में सौर उपकरण की स्थापना का कार्य सितम्बर, 2017 में शुरू हुआ था।

इस योजना को देश भर में लागू किया जा सकता है, इससे ग्रामीण लोगों को सस्ती दरों पर भोजन पकाने का उपकरण मिल जायेंगे। यह पर्यावरण की दृष्टि से भी काफी अच्छा माध्यम है, इससे लोगों को वनों में पेड़ काटने की ज़रुरत नही पड़ेगी। लकड़ी जलाकर भोजन पकाने से धुंए के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। सौर उर्जा से चलने  वाले चूल्हे से लोगों की स्वास्थ्य की रक्षा भी हो सकेगी।

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments