रोटावैक टीके का उपयोग अब देशभर में किया जायेगा

केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने रोटावैक टीके का उपयोग अब देशभर में बड़े पैमाने पर करने का निर्णय लिया है, इसकी शुरुआत सितम्बर, 2019 से होगी। यह निर्णय केंद्र सरकार के 100 दिन के एजेंडा का हिस्सा है।

पृष्ठभूमि

भारत में पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों में डायरिया का प्रमुख कारण रोटावायरस है।  भारत में प्रतिवर्ष 1000 में से 37 बच्चों की मौत डायरिया के कारण होती है। देश में प्रतिवर्ष 8 लाख लोगों को रोटावायरस के कारण अस्पताल में दाखिल होना पड़ता है तथा इससे प्रतिवर्ष 78,000 मौते होती हैं।

रोटावैक

रोटावैक भारत द्वारा विकसित टीका है, इसका उपयोग रोटावायरस संक्रमण को रोकने के लिए किया जाता है। इस टीके का निर्माण हैदराबाद बेस्ड भारत बायोटेक लिमिटेड द्वारा किया गया है। शुरू में इसे 2016 में चार राज्यों में उपयोग किया गया था। अब यह वैक्सीन 28 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में उपलब्ध है।

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments