सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायधीश मदन भीमराव लोकुर को फिजी के सर्वोच्च न्यायालय में नियुक्त किया गया

भारत के सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायधीश मदन भीमराव लोकुर को फिजी के सर्वोच्च न्यायालय के नॉन-रेजिडेंट पैनल में तीन वर्ष की अवधि के लिए नियुक्त किया गया है। वे दिसम्बर, 2018 में भारतीय सर्वोच्च न्यायालय में न्यायधीश के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे। इससे पहले फिजी ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, श्रीलंका, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका से नॉन-रेजिडेंट पैनल के लिए न्यायधीशों को आमंत्रित कर चुका है।

मदन भीमराव लोकुर

मदन भीमराव लोकुर ने दिल्ली के मॉडर्न स्कूल तथा सेंट स्टीफंस कॉलेज से शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने 1977 में अधिवक्ता के रूप में प्रवेश किया था। उनके पास नागरिक, आपराधिक, संवैधानिक, राजस्व तथा सेवा नियमों के सम्बन्ध में काफी अनुभव है। उन्होंने 1981 में सर्वोच्च न्यायालय में एडवोकेट-ऑन-रिकॉर्ड के लिए प्रवेश लिया था।

वे जुलाई, 1998 से फरवरी, 1999 तक भारतीय के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल रहे। फरवरी, 1999 में उन्हें दिल्ली उच्च न्यायालय का अतिरिक्त न्यायधीश नियुक्त किया गया। जून, 2010 से नवम्बर, 2011 तक उन्होंने गुवाहाटी उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्य किया। तत्पश्चात उन्होंने आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्य किया। जून, 2012 में उन्हें सर्वोच्च न्यायालय में न्यायधीश नियुक्त किया गया।

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments