BCCI ने NADA के दायरे में कार्य करने पर सहमती प्रकट की

भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड ने NADA (नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी) के दायरे में आने पर सहमती प्रकट की है। BCCI ने लिखित में NADA की एंटी डोपिंग नीति का पालन करने का निर्णय लिया है। अब तक स्वीडन बेस्ड इंटरनेशनल डोप टेस्टिंग मैनेजमेंट (IDTM) खिलाड़ियों के सैंपल एकत्रित करता था।

अब घरेलु टूर्नामेंट तथा द्विपक्षीय सीरीज के दौरान सभी खिलाड़ियों के सैंपल NADA द्वारा एकत्रित किये जायेंगे। NADA आईपीएल में अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों के सैंपल भी एकत्रित कर सकता है क्योंकि आईपीएल BCCI का घरेलु टूर्नामेंट है।

NADA (नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी)

यह भारत में खेलों में डोपिंग कण्ट्रोल प्रोग्राम की मॉनिटरिंग के लिए भारत में राष्ट्रीय संगठन है। इसकी स्थापना सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1890 के तहत 2005 में की गयी थी, इसका उद्देश्य भारत में डोप-मुक्त खेल सुनिश्चित करवाना है। यह WADA (वर्ल्ड एंटी-डोपिंग एजेंसी) के नियमों को लागू करता है।

भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड (BCCI)

भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड (BCCI) की स्थापना 1928 में की गयी थी, यह भारत में क्रिकेट के लिए सर्वोच्च राष्ट्रीय गवर्निंग बॉडी है। इसका मुख्यालय मुंबई में स्थित है। भ्रष्टाचार तथा एकाधिकार से सम्बंधित के विवाधों के कारण सर्वोच्च न्यायालय ने 30 जनवरी, 2017 को प्रशासकों की समिति का गठन किया था। इस समिति में विनोद राय, रामचंद्र गुहा, विक्रम लिमये तथा डायना एदुल्जी शामिल हैं। इस समिति का गठन का BCCI में  लोधा समिति के सुधारों का क्रियान्वयन के लिए किया गया था। इस समिति के प्रमुख भारत के पूर्व CAG विनोद राय हैं।

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments