अर्थव्यवस्था करेंट अफेयर्स

सामान्य तरजीही प्रणाली:अमेरिका ने भारत की योग्यता समीक्षा की घोषणा की

अमरीका के व्यापार प्रतिनिधि कार्यालय ने यह घोषणा की कि वह शुल्क मुक्त निर्यात की सामान्य तरजीही प्रणाली के तहत भारत, इंडोनेशिया और कजाखस्तान की पात्रता की समीक्षा कर रहा है। यह समीक्षा संबंधित देशों के कार्यक्रम अनुपालन शर्तों को लेकर बढ़ी चिंता पर आधारित है यह समीक्षा ट्रंप प्रशासन की जीएसपी के तहत देश की पात्रता आकलन की नयी प्रक्रिया के आधार पर होगी।

मुख्य तथ्य

भारत के लिए, जीएसपी देश की पात्रता समीक्षा जीएसपी बाजार पहुंच मानदंड के अनुपालन की चिंताओं संबंधित दो याचिकाओं पर आधारित है। अमेरिकी डेयरी उद्योग और अमेरिका के मेडिकल डिवाइस उद्योग द्वारा याचिकाएं दायर की गईं है जिसमे अमेरिकी निर्यात को प्रभावित करने वाले भारतीय व्यापार अवरोधों की समीक्षा का अनुरोध किया गया है ।
इंडोनेशिया के लिए जीपीपी देश पात्रता समीक्षा जीएसपी बाजार पहुंच मानदंड और जीएसपी सेवाओं और निवेश मानदंड के अनुपालन से संबंधित चिंताओं पर आधारित है। कजाखस्तान की पात्रता समीक्षा जीएसपी कार्यकर्ता अधिकारों के मानदंड के अनुपालन से संबंधित चिंताओं पर आधारित है।

सामान्य तरजीही प्रणाली (जीएसपी)

जीएसपी 1976 में शुरू किया गया सबसे बड़ा और सबसे पुराना अमेरिकी व्यापार वरीयता कार्यक्रम है। यह विकासशील देशों को विकासित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो विकासशील देशों के हजारों उत्पादों के लिए ड्यूटी फ्री एंट्री की अनुमति दे रहा है। विकासशील देशों से होने वाली औद्योगिक और कृषि उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला को अमेरिका के बाजारों में प्राथमिकता दी जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories: /

Month:

Tags: , , , ,

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड 424.864 अरब डॉलर के उच्चतम स्तर पर : आरबीआई

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के मुताबिक, अप्रैल, 2018 में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 424.864 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया है। यह बढ़ोतरी विदेशी मुद्रा संपत्ति में भारी वृद्धि के कारण हुई ।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को ‘आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, ,विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों ,सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

अप्रैल 2018 में विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $ 39 9.776 बिलियन
गोल्ड रिजर्व: $ 21.484 बिलियन
आईएमएफ के साथ एसडीआर: $ 1.534 बिलियन
आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $ 2.070 बिलियन

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement