पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स

इंडियन आयल पानीपत में करेगा 2G एथेनॉल प्लांट की स्थापना

हरियाणा के पानीपत में 2G एथेनॉल प्लांट की स्थापना के लिए पर्यावरण मंत्रालय ने इंडियन आयल कारपोरेशन को क्लीयरेंस दे दी है। इंडिया आयल इस प्लांट की स्थापना के लिए 766 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।

इस प्लांट में उप्तादित किये जाने वाले एथेनॉल को परिवहन इंधन में मिलाया जायेगा। इस परियोजना का उद्देश्य किसानों की आय को दोगुना करना है।

केंद्र सरकार पेट्रोलियम उत्पादों पर निर्भरता को कम करने के लिए काफी प्रयास कर रही है। हाल ही में केंद्र सरकार ने अधिसूचना जारी करके स्पष्ट किया था कि गन्ने के रस से एथेनॉल के उत्पादन के लिए शुगर मिलों को पर्यावरणीय क्लीयरेंस की ज़रुरत नहीं है।

भारत में एथेनॉल

भारत में 2003 में एथेनॉल को इंधन के रूप में उपयोग किये जाने की शुरुआत हुई। शुरू में E5 इंधन में 95% डीजल तथा 5% एथेनॉल मिलाया जाता था। 2006 में भारत ने E10 जैव इंधन का दूसरा चरण शुरू किया, इस चरण में 90% डीजल तथा 10% एथेनॉल तथा 90% डीजल मिलाया जाता है। भारत को अभी E15 औपचारिक रूप से लांच करना बाकी है। गौरतलब है कि कई देश E100 तक लांच कर चुके हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

153 देशों के 11,000 वैज्ञानिकों ने जलवायु आपातकाल घोषित किया

बायोसाइंस नामक पत्रिका में प्रकाशित एक पत्र में 11,258 हस्ताक्षरकर्ताओं (69 भारतीय शामिल) ने वैश्विक जलवायु आपातकाल घोषित किया है। इस रिपोर्ट का नाम ‘वर्ल्ड साइंटिस्ट्स’ है। यह 40 वर्ष के डाटा के वैज्ञानिक विश्लेषण पर आधारित है। इसमें 1979 में जिनेवा में प्रथम जलवायु सम्मेलन के बाद से जलवायु परिवर्तन से सम्बंधित प्रमुख सूचकों को प्रदर्शित किया गया है।

मुख्य बिन्दु

वैज्ञानिकों ने ‘महत्वपूर्ण चिन्ह’ नामक इस सूची तैयार की है, इससे जलवायु परिवर्तन की स्थिति स्पष्ट होती है। इस रिपोर्ट में हवाई यात्रा, मांस उत्पादन, प्रजनन दर इत्यादि को जलवायु परिवर्तन के कारकों की सूची में डाला गया है।

इस रिपोर्ट में जलवायु परिवर्तन के 14 प्रभावों का वर्णन किया गया, इसमें अत्याधिक विषम मौसम, समुद्री ऊष्मा की मात्र, महासागरीय अम्लीयता इत्यादि शामिल हैं।

इसमें जीवाश्म इंधन के उपयोग को कम करने की अनुशंसा की गयी है।

इस रिपोर्ट के 6 उद्देश्य निम्नलिखित हैं :

  • जीवाश्म इंधन को स्थानापन
  • पारिस्थितिकी तंत्र की सुरक्षा
  • मीथेन जैसे प्रदूषकों में कमी करना।
  • मांस का कम उपभोग
  • अर्थव्यवस्था को कार्बन-मुक्त बनाना
  • जनसँख्या वृद्धि दर को स्थिर करना

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement