पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स

COP25 में क्लाइमेट एम्बिशन अलायन्स में 73 देश शामिल हुए

हाल ही में COP25 में क्लाइमेट एम्बिशन अलायन्स में 73 देश शामिल हुए। इस अलायन्स का नेतृत्व चिली द्वारा किया जा रहा है, इस अलायन्स को 2019 में क्लाइमेट एक्शन समिट में लांच किया गया था।

 क्लाइमेट एम्बिशन अलायन्स

क्लाइमेट एम्बिशन अलायन्स 2050 तक नेट जीरो के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए नेशनली डीटरमाइंड कॉन्ट्रिब्यूशन पर फोकस करेगा। इसके अलावा यह सतत अधोसंरचना, जल प्रबंधन तथा सतत  शहरों पर फोकस करेगा। इसका मुख्य उद्देश्य 2050 तक नेट जीरो कार्बन एमिशन (शून्य कार्बन उत्सर्जन) का लक्ष्य हासिल करना है।

COP25

स्पेन की राजधानी मेड्रिड में विश्व के वार्षिक जलवायु सम्मेलन ‘COP-25’ (कांफ्रेंस ऑफ़ पार्टीज) का आयोजन 2 से 13 दिसम्बर, 2019 के दौरान किया गया।

कांफ्रेंस ऑफ़ पार्टीज क्या है?

कांफ्रेंस ऑफ़ पार्टीज संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क कन्वेंशन (UNFCCC) की सर्वोच्च निर्णय निर्माता संस्था है। यदि कोई देश सत्र की मेजबानी की पेशकश नहीं करता है तो सत्र की मेजबानी बोन (UNFCCC के सचिवालय) में की जाती है। पहली COP बैठक का आयोजन मार्च 1995 में जर्मनी के बर्लिन में किया गया था।

इस सम्मेलन में कन्वेंशन के क्रियान्वयन की समीक्षा की जाती है। COP की अध्यक्षता बारी-बारी से पांच मान्यता प्राप्त क्षेत्रों (एशियाई, मध्य व पूर्वी यूरोप, अफ्रीका, लैटिन अमेरिका, कैरिबियन तथा पश्चिमी यूरोप इत्यादि) के द्वारा की जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस : 11 दिसम्बर

प्रतिवर्ष 11 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस की स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2003 में प्रस्ताव पारित करके की थी। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को पर्वत के संरक्षण के लिए प्रेरित करना तथा पर्वतों के महत्व को रेखांकित करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करना है।

मुख्य बिंदु

इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस की थीम “Mountains Matter for Youth” है। इस दिवस के लिए संयुक्त राष्ट्र खाद्य व कृषि संगठन द्वारा समन्वय किया जाता है। इस दिवस पर पर्वतों के महत्व को दर्शाने के लिए विभिन्न किस्म के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।

FAO के अनुसार पर्वत ताज़े पानी का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है, इनसे विश्व के कुल 60-80% ताज़े पानी की आपूर्ति होती है। यह जैव विविधता के लिए भी अति आवश्यक है। विश्व भर में पर्वतीय क्षेत्रों लगभग 1 अरब लोग निवास करते हैं। लगभग आधा अरब लोग जल, भोजन तथा स्वच्छ उर्जा के लिए पर्वतों पर निर्भर हैं। पिछले कुछ समय में जलवायु परिवर्तन, भू-क्षरण, अत्याधिक शोषण तथा प्राकृतिक आपदाओं के कारण पर्वतों को नुकसान हो रहा है।

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement