अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद पहली बार COVID-19 पर बैठक का आयोजन करेगी

2 अप्रैल, 2020 को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के वर्तमान अध्यक्ष डोमिनिकन रिपब्लिक ने घोषणा की कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अगले सप्ताह COVID-19 पर बैठक का आयोजन करेगी।

मुख्य बिंदु

इस बैठक का आयोजन टेलीकांफ्रेंसिंग के माध्यम से किया जाएगा। इस परिषद की प्राथमिक जिम्मेदारी भू-राजनीतिक शांति और सुरक्षा से निपटना है। COVID-19 पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की निष्क्रियता को लेकर इसकी आलोचना के बाद इस बैठकके आयोजन का निर्णय लिया गया है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि 2014 में इबोला के समय इस परिषद ने तेजी से काम किया था।

इबोला के दौरान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद

2014 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने प्रस्ताव 2177 अपनाया था, जिसमें दावा किया गया था कि अफ्रीका में इबोला का अभूतपूर्व प्रकोप “अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा” के लिए खतरा है। इस प्रस्ताव में देशों से तत्काल संसाधन और चिकित्सा सहायता प्रदान करने का आग्रह किया गया था। यूएनएससी की इस पहल में कई सदस्य राष्ट्र शामिल थे और इससे कई लोगों की जान बचाने में मदद मिली।

वर्तमान परिदृश्य

वर्तमान में अमेरिका में कोरोना वायरस के मामलों की सबसे अधिक संख्या (2,13,372) है, जिसके बाद इटली में 1,10,574 मामले, स्पेन में 1,04,118, चीन में 82,361 मामले हैं। कोरोना वायरस के कारण अमेरिका में अब तक 4,600 लोगों की मौत हो चुकी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

संयुक्त राष्ट्र परमाणु एजेंसी ने 40 देशों को COVID-19 परीक्षण उपकरण की आपूर्ति की

संयुक्त राष्ट्र की एक स्वायत्त शाखा अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) ने लगभग 40 देशों को COVID-19 परीक्षण उपकरण भेजे हैं।

मुख्य बिंदु

IAEA को ईरान जैसे देशों में इसके परमाणु निरीक्षण कार्यों के लिए जाना जाता है। यह देशों को शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए परमाणु तकनीक का उपयोग करने में भी मदद करता है। इस संगठन को हाल ही में COVID-19 परीक्षण में सहायता के लिए 90 देशों से अनुरोध प्राप्त हुए थे। परमाणु एजेंसी ने उन अनुरोधों में से 40 को मदद भेज दी है।

लाभार्थी

इन लाभार्थियों में ईरान, केन्या, मिस्र, नाइजीरिया, वियतनाम, क्यूबा, ​​थाईलैंड, पेरू और उरुग्वे शामिल हैं। इन देशों को 4.37 मिलियन डालर मूल्य के परीक्षण उपकरण प्रदान किये जा रहे हैं। एशिया में मंगोलिया, श्रीलंका, नेपाल, लाओस, कंबोडिया, म्यांमार और फिलीपींस को यह उपकरण प्राप्त हुए हैं। अन्य देश अफ्रीका और लैटिन अमेरिका से हैं।

IAEA द्वारा भेजे गए किट में RT-PCR तकनीक का उपयोग किया जाता है। इस तकनीक में, वायरस के आरएनए का पता लगाया जाता है। RT-PCR का पूर्ण स्वरुप Real Time Polymerase Chain Reaction है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement