अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

नेपाल-भारत मैत्री सिंचाई परियोजना के लिए भारत ने नेपाल को दी वित्तीय सहायता

भारत ने कृषि उत्पादकता को बढ़ावा देना के लिए नेपाल के 12 जिलों में 2,700 शैलो ट्यूब वेल सिंचाई प्रणाली की स्थापना के लिए 99 मिलियन नेपाली रुपये की वित्तीय सहायता बढ़ाई. नेपाल-भारत मैत्री सिंचाई परियोजना के लिए अंतिम भुगतान के हिस्से के रूप में इस सहायता को बढ़ाया गया. इस भुगतान के साथ, भारत ने इस परियोजना को लागू करने के लिए नेपाल को अब तक 227.6 मिलियन नेपाली रुपये दिये हैं.

नेपाल-भारत मैत्री सिंचाई परियोजना

यह परियोजना जनवरी 2017 में उन्नत सुविधाओं के माध्यम से हिमालयी राष्ट्र के कृषि क्षेत्र में वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई थी. इसके तहत, भारत ने नेपाल को 8,115 हेक्टेयर कृषि भूमि, चावल, गेहूं और मौसमी सब्जियों, फलों और अन्य फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए सभी मौसमों में सिंचाई सुविधा सुनिश्चित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की. इस मैत्री सिंचाई परियोजना का अंतिम उद्देश्य परियोजना के तहत शामिल 12 जिलों के कृषि परिवारों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति को ऊपर उठाना है. भारत सरकार पिछले कई वर्षों से नेपाल में कृषि उत्पादकता में सुधार के दायरे पर ध्यान केंद्रित करते हुए, नेपाल के विभिन्न क्षेत्रों में दीप ट्यूब वेल्स (DTWs) और शैलो टब वेल्स (STWs) के विकास के लिए नेपाल सरकार के साथ साझेदारी कर रही है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

12 जून: बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस

बाल श्रम के खिलाफ वैश्विक स्तर पर जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 12 जून को बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस मनाया जाता है. इस वर्ष का विषय ‘सुरक्षित और स्वस्थ पीढ़ी’ है. इस साल, ‘बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस’ (WDACL) और ‘काम पर सुरक्षा और स्वास्थ्य के लिए विश्व दिवस’ (SafeDay) द्वारा युवा श्रमिकों की सुरक्षा और स्वास्थ्य में सुधार और बाल श्रम के अंत के लिए एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया है. इस संयुक्त अभियान का उदेश्य सतत विकास लक्ष्यों के अंतर्गत निर्धारित लक्ष्य 8.7 के अनुसार 2025 तक बाल श्रम के सभी रूपों को समाप्त किया जाना और निर्धारित लक्ष्य 8.8 के अनुसार 2030 तक सभी श्रमिकों के लिए सुरक्षित कामकाजी वातावरण उपलब्ध करवाना है.

पृष्ठभूमि

2002 में अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने बाल श्रम की वैश्विक सीमा और इसे खत्म करने के प्रयासों की आवश्यकता पर ध्यान केन्द्रित करते हुये बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस शुरू किया गया था. यह दिवस प्रत्येक वर्ष 12 जून को बाल मजदूरों की दुर्दशा को उजागर करने और उनकी मदद करने के सुझावों के लिए सरकारों, श्रमिक संगठनों और नियोक्ताओं, नागरिक समाज और साथ ही दुनिया भर के लाखों लौगों को एक साथ एकत्रित करता है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement