अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

बान की-मून को बाओ फोरम फॉर एशिया का अध्यक्ष चुना गया

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की-मून को बाओ फोरम फॉर एशिया का अध्यक्ष चुना गया। यह फोरम वर्तमान में चीन के हैनान प्रांत में चल रहा है। बान एशियाई दावोस के रूप में जाने जाने वाले इस वार्षिक सम्मेलन में जापान के यासुओ फुकुदा का स्थान लेंगे। पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के पूर्व गर्वनर झाउ शिओचुअन को उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

मुख्य तथ्य

o बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रमुखों सहित इसमें हर साल 2,000 से ज्यादा राजनीतिक व आर्थिक नेता भाग लेते हैं।

o फोरम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लागार्दे, फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतेर्ते व ऑस्ट्रियाई राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वान डेर बेलेन इस साल भाग ले रहे हैं।

बाओ फोरम फॉर एशिया

फोरम क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण को बढ़ावा देने और एशियाई देशों को अपने विकास लक्ष्यों के करीब लाने के लिए प्रतिबद्ध है। यह 2001 में स्थापित किया गया था। इसकी पहली बैठक अप्रैल 2002 में आयोजित की गई थी और उसके बाद से यह सालाना आयोजित किया जाता है।

Categories: /

Month:

Tags: , , , , ,

रूसी सेना ने अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल ‘सरमत’ का सफल परीक्षण किया

रूसी सेना ने अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) ‘सरमत’ का सफल परीक्षण किया है. उत्तर-पश्चिमी रूस के प्लेसेत्स्क कॉस्मोड्रोम (प्रक्षेपण केंद्र) से ‘सरमत’ मिसाइल का प्रक्षेपण किया गया.

‘सरमत’ मिसाइल सोवियत युग में डिजाइन किए गए ‘वोयेवोडा’ का स्थान लेगी. विश्व की सबसे भारी आईसीबीएम के रूप में ‘वोयेवोडा’ को जाना जाता है है जिसे पश्चिमी देशों में ‘शैतान’ (SATAN) के नाम से जाना जाता है.

रूसी राष्ट्रपति की ओर जारी एक बयान में कहा गया कि ‘सरमत’ का वजन 200 मीट्रिक टन है और यह‘ वोयेवोडा’ से ज्यादा लंबी दूरी तक मार कर सकती है. ‘सरमत’ विश्व के किसी भी कोने में उत्तरी या दक्षिणी ध्रुवों पर उड़ान भर सकती है और विश्व में किसी भी जगह पर अपने लक्ष्य को भेद सकती है.

सरमत मिसाइल

• सरमत मिसाइल की मारक क्षमता 12,000 किलोमीटर से भी अधिक आंकी गयी है.

• अपने साथ 10 परमाणु हथियार अर्थात लगभग 100 टन वजनी परमाणु सामग्री यह मिसाइल ले जा सकती है.

• दुनिया के किसी भी कोने पर अत्याधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली को भी चकमा देकर हमला करने में सरमत मिसाइल सक्षम है.

• सरमत मिसाइल का असली नाम आरएस-28 ‘सरमत’ है जिसे नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (नाटो) ने शैतान-2 नाम भी दिया है.

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement