अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

होराइजन 2020 : भारत और यूरोपीय संघ ने अगली पीढ़ी के इन्फ्लुएंजा टीके विकसित करने के लिए सहयोग पर सहमती प्रकट की

भारत और यूरोपीय संघ ने अनुसन्धान कार्यक्रम ‘होराइजन 2020’ के तहत अगली पीढ़ी के टीके विकसित करने के लिए सहयोग पर सहमती प्रकट की है। इस अनुसन्धान कार्यक्रम के लिए भारत के बायोटेक्नोलॉजी विभाग और यूरीपीय संघ ने 30 मिलियन यूरो (240 करोड़ रुपये) की फंडिंग के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है।

होराइजन 2020 अनुसन्धान कार्यक्रम

इस अनुसन्धान कार्यक्रम के तहत कम लागत पर इन्फ्लुएंजा के टीके विकसित किये जायेंगे। इन वैक्सीन का  प्रभाव, सुरक्षा, प्रतिरक्षा काफी अधिक होगी। इस अनुसन्धान व नवोन्मेष के लिए 240 करोड़ रुपये की राशि आबंटित की गयी है। वैक्सीन के विकास भारत और यूरोपीय संघ द्वारा संयुक्त रूप से किया जायेगा, इसमें 3 आवेदक यूरोपीय संघ तथा 3 आवेदक भारत की ओर से हिस्सा लेंगे। अन्य देश भी इस कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं।

महत्व

इस कार्यक्रम की अंतिम परिणामों से धारित विकास 3 के लक्ष्यों को प्राप्त करने में आसानी होगी और इससे स्वास्थ्य सुरक्षा सुनिशिचित की जा सकेगी। इससे भविष्य में इन्फ्लुएंजा के कारण होने वाली महामारी का सामना करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय तैयार रहेगा। इससे भारत के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन को भी बढ़ावा मिलेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

सत्य त्रिपाठी को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रोग्राम के न्यूयॉर्क कार्यालय का प्रमुख तथा सहायक महासचिव नियुक्त किया गया

भारत के अनुभवी अर्थशास्त्री सत्य एस. त्रिपाठी को संयुक्त राष्ट्र सहायक महासचिव तथा संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रोग्राम के न्यूयॉर्क कार्यालय का प्रमुख नियुक्त किया गया है। उनकी नियुक्ति संयुक्त राष्ट्र के महासचिव अंतोनियो गुटेरेस द्वारा की गयी। सत्य त्रिपाठी त्रिनिदाद व टोबागो के इलियट हैरिस की जगह लेंगे।

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रोग्राम (UNEP) पर्यावरण के लिए कार्य करने वाली विश्व की प्रमुख एजेंसी हैं

यह सरकारों, निजी सेक्टर, सिविल सोसाइटी, अन्य संयुक्त राष्ट्र संगठनों तथा विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर कार्य करती है।

सत्य त्रिपाठी

सत्य त्रिपाठी ने ओडिशा के बेरहामपुर विश्वविद्यालय से वाणिज्य और कानून में स्नातक तथा स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की। सत्य एस. त्रिपाठी संयुक्त राष्ट्र में 1998 से कार्य कर रहे हैं, वे यूरोप, एशिया और अफिर्चा में धारित विकास, मानव अधिकार और लोकतान्त्रिक शासन व कानूनी मामलों पर कार्य कर चुके हैं। 2017 से वे संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रोग्राम में वरिष्ठ सलाहकार के रूप में कार्यरत्त थे। इससे पहले उन्होंने संयुक्त राष्ट्र रिकवरी कोऑर्डिनेटर के रूप में भी कार्य किया है। वे सायप्रस एकीकरण वार्ता के लिए गठित संयुक्त राष्ट्र की कानून समिति से अध्यक्ष थे।

नोट : सत्य त्रिपाठी अतुल खरे और निखिल सेठ के बाद संयुक्त राष्ट्र में तीसरे सबसे उच्च पद पर कार्यरत्त भारतीय हैं। अतुल खरे डिपार्टमेंट ऑफ़ ऑपरेशंस के अधीनस्थ महासचिव हैं। निखिल सेठ सहायक महासचिव हैं, 2015 में संयुक्त राष्ट्र प्रशिक्षण व अनुसंधान संस्थान के अध्यक्ष थे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement