अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

लज़ारस चकवेरा को मलावी के नया राष्ट्रपति चुना गया

23 जून, 2020 को मलावी के राष्ट्रपति के चुनाव आयोजित किये गये। 2,604,043 वोट हासिल करने के बाद, लाजरस चकवेरा मलावी के नए राष्ट्रपति चुने गए, उन्होंने कुल वैध वोटों में से  59.34 प्रतिशत वोट हासिल किये। 2019 के राष्ट्रपति चुनाव विजेता पीटर मुथारिका ने 2020 के राष्ट्रपति चुनावों में कुल वैध मतों का 39.92 प्रतिशत हासिल किया।

पृष्ठभूमि

2019 राष्ट्रपति चुनाव का आयोजन 21 मई, 2019 को किया गया था, जिसमें पीटर मुथारिका को कुल वैध मतों में सर्वाधिक 38.57 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए थे, और वे मलावी के राष्ट्रपति बने थे।

चुनाव परिणामों की मलावी के विपक्षी दलों ने बहुत आलोचना की और चुनाव को टिप-एक्स चुनाव कहा। टिप-एक्स एक लोकप्रिय करेक्शन फ्लूइड है। विपक्षी दलों ने दावा किया कि करेक्शन फ्लूइड टिप-एक्स का इस्तेमाल वोटों में छेड़छाड़ के लिए किया गया था। आरोपों के आधार पर, मलावी की संवैधानिक अदालत ने जांच के दौरान अनियमितताओं और वोट से छेड़छाड़ के सबूत हासिल किये। इसके बाद  3 फरवरी, 2020 को संवैधानिक न्यायालय द्वारा 2019 राष्ट्रपति चुनाव के निरस्तीकरण किया गया।

मलावी

मलावी दक्षिणी अफ्रीका में स्थित एक देश है, इसे पहले न्यासालैंड भी कहा जाता था। यह एक लैंडलॉक्ड देश है, इसकी सीमा ज़ाम्बिया, तंज़ानिया, मोजाम्बिक के साथ लगती है। मलावी का कुल क्षेत्रफल 1,18,484 वर्ग किलोमीटर है, इसकी जनसँख्या लगभग 18 मिलियन है। मलावी ने 6 जुलाई,1964 को यूनाइटेड किंगडम से स्वतंत्रता हासिल की थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

5 वर्ष से कम आयु के लगभग 2.4 मिलियन बच्चे यमन में भूख और कुपोषण का सामना कर रहे हैं : यूनिसेफ

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ) ने 26 जून. 2020 ने कहा है कि COVID -19 वैश्विक महामारी के बीच, लगभग 24 लाख बच्चों को जो 5 से कम उम्र के हैं यमन में भूख और कुपोषण का सामना कर रहे। वैश्विक महामारी ने युद्धग्रस्त राष्ट्र में मानवीय सहायता की कमी को और बढ़ा दिया है जो कि 2015 में गृह युद्ध की शुरुआत के बाद से आवश्यक सेवाओं, दवाओं आदि की व्यापक कमी से जूझ रहा है।

यूनिसेफ ने आगे कहा है कि अगले 5-6 महीनों के भीतर 5 साल से कम उम्र के 30,000 बच्चे गंभीर कुपोषण से पीड़ित हो सकते हैं। 90 लाख से अधिक यमनी बच्चों के पास आज सुरक्षित पानी, भोजन और स्वच्छता तक पहुंच नहीं है। इस महामारी के दौरान, केवल आधी स्वास्थ्य सुविधाएं यमन में चल रही हैं।

यमन गृह युद्ध

यमन में गृह युद्ध हौथी सशस्त्र आंदोलन और यमन सरकार के बीच मार्च 2015 में शुरू हुआ था। दोनों धड़ों का यमन में आधिकारिक सरकार के गठन का दावा है। वर्तमान में हौथी सशस्त्र बलों का सना (यमन की राजधानी) पर नियंत्रण है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement