राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

भारतीय नौसेना ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया

भारतीय नौसेना ने 290 किलोमीटर रेंज वाली सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण अरब सागर में किया गया, इस मिसाइल को नौसेना के स्टेल्थ डिस्ट्रॉयर आईएनएस कोच्ची से दागा गया।

ब्रह्मोस मिसाइल

ब्रह्मोस मिसाइल का नाम दो नदियों के नामों को जोड़कर बनाया गया है, यह नाम भारतीय नदी “ब्रह्मपुत्र” तथा रूस की “मोस्कवा” नदी के नाम को मिलाकर बनाया गया है। इस मिसाइल की रेंज लगभग 290 किलोमीटर है।

ब्रह्मोस एक माध्यम रेंज की सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, इसे पनडुब्बी, समुद्री जहाज़, लड़ाकू विमान व ज़मीन से दागा जा सकता है। ब्रह्मोस रूस की NPO और भारत के DRDO के बीच एक संयुक्त उपक्रम है। ब्रह्मोस मिसाइल 3 मैक (ध्वनि से तीन गुना तेज़) की गति से अपने लक्ष्य को भेदने की क्षमता रखती है। वर्तमान में इसकी गति को 5 मैक तक करने पर कार्य किया जा रहा है। यह मिसाइल रूसी मिसाइल पी-800 ओनिक्स पर आधारित है। इस मिसाइल का नाम भारत की नदी ब्रह्मपुत्र और रूस की नदी मोस्कवा के नाम को मिलाकर ‘ब्रह्मोस’ रखा गया है। वर्तमान में ब्रह्मोस मिसाइल के हाइपरसोनिक संस्करण को विकसित किया जा रहा है, यह हाइपरसोनिक संस्करण 7-8 मैक की गति से लक्ष्य भेदने में सक्षम होगी। फिलहाल यह हाइपरसोनिक संस्करण लगभग 2020 में परीक्षण के लिए तैयार होगा।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

जनरल बिपिन रावत बन सकते हैं पहले चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ बन सकते हैं। नये चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ की घोषणा दिसम्बर में की जायेगी। इससे पहले प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ पद के सृजन की घोषणा की थी। चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ तीनों बलों – भारतीय थल सेना, नौसेना तथा वायुसेना के बीच समन्वय स्थापित करेगा।

चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ (CDS)

पिछले कई वर्षों से चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ की मांग की जा रही थी, यह तीनों बलों के बीच समन्वय स्थापित करने तथा उनकी प्रभावशीलता में वृद्धि करने के लिए आवश्यक है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कहा, “हमारे सैन्य बल हमारा गौरव हैं। सैन्य बलों के बीच समवंव्य को बेहतर बनाने के लिए मैं चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ – सी.डी.एस. की घोषणा करना चाहता हूँ। इससे हमारे सैन्य बल और भी प्रभावशाली होंगे।“

चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ देश का सर्वोच्च सैन्य अधिकारी होगी, वह भारतीय सेना, वायुसेना तथा नौसेना को परामर्श प्रदान करेगा। यह अधिकारी प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री के लिए सैन्य सलाहकार का कार्य भी करेगा।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement