राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

भारत और रूस के बीच किया जायेगा इंद्र अभ्यास का आयोजन

भारत और रूस के बीच इंद्र अभ्यास का आयोजन 10 से 19 दिसम्बर के दौरान किया जायेगा। इस युद्ध अभ्यास का उद्देश्य दोनों नौसेनाओं के बीच इंटरओपेराबिलिटी को बढ़ावा देना तथा समुद्री सुरक्षा ऑपरेशन के सम्बन्ध में आपसी समझ को विकसित करना था।

इंद्र अभ्यास  2019

यह एक त्रिसेवा अभ्यास है, इसमें दोनों देशों की थल सेना, वायुसेना तथा नौसेना हिस्सा लेंगी। इस अभ्यास का आयोजन गोवा तथा पुणे में किया जायेगा। इसमें लड़ाकू विमान, युद्ध पोत इत्यादि हिस्सा लेंगे।

पृष्ठभूमि

भारतीय नौसेना रूसी नौसेना के साथ विभिन्न गतिविधियों में शामिल होती है, इसमें ऑपरेशनल इंटरेक्शन, प्रशिक्षण, हाइड्रोग्राफ़िक ऑपरेशन इत्यादि प्रमुख है। इंद्रा नौसेना अभ्यास की शुरुआत वर्ष 2003 में हुई थी, तत्पश्चात इस युद्ध अभ्यास के आकार व क्षेत्र में काफी वृद्धि हुई है। इस युद्ध अभ्यास से दोनों देशों की नौसेनाओं के कौशल तथा समन्वय में वृद्धि होगी। 2017 में प्रथम त्रिसेवा अभ्यास का आयोजन किया गया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

भारत ने फ्रांस से मिटियोर मिसाइल की डिलीवरी शीघ्र करने की मांग की

भारत ने फ्रांस से मिटियोर मिसाइल की डिलीवरी शीघ्र करने की मांग की है। इन मिसाइलों के द्वारा भारत पाकिस्तानी वायुसेना को अमेरिका द्वारा प्रदान की गयी AMRAAM मिसाइलों का मुकाबला दक्षता से कर सकेगा।

इन मिसाइलों की डिलीवरी भारत को 2020 में होनी है, परन्तु भारत इन मिसाइलों की शीघ्र डिलीवरी के लिए मांग कर रहा है। भारत पहले राफेल लड़ाकू विमानों के लिए कम से कम 10 मिटियोर मिसाइलों की एडवांस डिलीवरी की मागं कर रहा है। भारत को मई, 2020 तक राफेल जेट की पहली खेप मिल जायेगी।

मिटियोर मिसाइल

यह हवा से हवा में मार कर सकने वाली मिसाइल है, इसकी रेंज 150 किलोमीटर है। भारत इन मिसाइलों का उपयोग राफेल लड़ाकू विमाओं का साथ करेगा। भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के कारण भारत इन मिसाइल की डिलीवरी शीघ्र चाहता है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , , ,

Advertisement