व्यक्तिविशेष करेंट अफेयर्स

ओयो के संस्थापक रितेश अग्रवाल बने  दुनिया के दूसरे सबसे युवा अरबपति

हाल ही में जारी हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2020 के अनुसार, ओयो रूम्स  के संस्थापक रितेश अग्रवाल दुनिया के दूसरे सबसे कम उम्र के अरबपति हैं। 26 साल की उम्र में उनकी संपत्ति 1.1 बिलियन डॉलर आंकी गई है। वैश्विक सूची में, काइली जेनर केवल 22 साल की उम्र में रितेश अग्रवाल से आगे हैं। रितेश भी सबसे कम उम्र के स्व-निर्मित भारतीय अरबपति हैं, उनके बाद जीरोधा, फ्लिपकार्ट और बायजूज के संस्थापक हैं।

रितेश अग्रवाल

रितेश अग्रवाल एक भारतीय उद्यमी तथा देश के सबसे युवा अरबपति हैं। वे ओयो रूम्स एक संस्थापक व सीईओ हैं। उनका जन्म 16 नवम्बर, 1993 को ओडिशा में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई सैंट जॉन्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल से की, बाद में 2011 में कॉलेज की पढ़ाई के लिए दिल्ली आये। हालांकि उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी। 2013 में उन्होंने पीटर थिएल फ़ेलोशिप के लिए चुना गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

26 फरवरी को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की पुण्यतिथि के रूप में मनाया गया

26 फरवरी को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की पुण्यतिथि के रूप में मनाया गया।

विनायक दामोदर सावरकर (1883-1966)

  • विनायक दामोदर सावरकर को वीर सावरकर के नाम से जाना जाता था, उनका जन्म 28 मई, 1883 को महाराष्ट्र के नासिक में हुआ था।
  • वे एक स्वतंत्रता सेनानी थे, उन्होंने 1887 की क्रांति को स्वतंत्रता का प्रथम युद्ध कहा था।
  • उन्होंने पुणे में अभिनव भारत सोसाइटी नामक संगठन की थी लन्दन में उन्होंने फ्री इंडिया सोसाइटी का गठन किया।
  • विनायक दामोदर सावरकर ने “जोसफ मैजिनी – जीवन कथा व राजनीती” नामक पुस्तक लिखी। उन्होंने 1857 की क्रान्ति पर “द इंडियन वॉर ऑफ़ इंडिपेंडेंस” नामक पुस्तक का प्रकाशन किया था। इसके अलावा उन्होंने रत्नागिरी में कैद के दौरान “हिंदुत्व – हु इस हिन्दू” नामक पुस्तक भी लिखी।
  • हालांकि वे हिन्दू महासभा के संस्थापक नही थे, परन्तु वे 1937 से 1943 के बीच हिन्दू महासभा के अध्यक्ष रहे।
  • वीर सावरकर ने भारत को “हिन्दू राष्ट्र” के रूप में एक निर्मित किये जाने का समर्थन किया, उन्होंने राष्ट्रवादी राजनीतिक विचारधारा “हिंदुत्व” के विकास किया।
  • उनके सम्मान में अंडमान व निकोबार के पोर्ट ब्लेयर के हवाईअड्डे का नाम वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा रखा गया है।28 मई को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की जन्म वर्षगाँठ के रूप में मनाया गया

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement