स्थानविशेष करेंट अफेयर्स

मॉरीशस करेगा 11 वें विश्व हिंदी सम्मेलन की मेजबानी

18-20 अगस्त, 2018 से मॉरीशस अपने राजधानी शहर पोर्ट लोइस में 11 वें विश्व हिंदी सम्मेलन (WHC) की मेजबानी करेगा. यह मॉरीशस सरकार के सहयोग से भारत सरकार के विदेश मंत्रालय (MEA) द्वारा आयोजित किया जाएगा. सम्मेलन का विषय “वैश्विक हिंदी और भारतीय संस्कार” रहेगा.

मुख्य तथ्य

इस सम्मेलन का लक्ष्य भाषा के योगदान हेतु दुनिया के विभिन्न हिस्सों से कई हिंदी विद्वानों, लेखकों और विजेताओं को एक मंच प्रदान करना है. इसका स्थान स्वामी विवेकानंद अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र, पाइल्स मॉरीशस होगा. सम्मेलन में हिंदी के शास्त्रीय और आधुनिक दोनों ही तत्व शामिल होंगे और दुनिया भर से हिंदी के सहभागिता प्रतिनिधियों और विद्वानों को देखा जा सकेगा.

विश्व हिंदी सम्मेलन (World Hindi Conference)

दुनिया भर में हिंदी की लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय (MEA) द्वारा हर तीन साल में आयोजित विश्व हिंदी सम्मेलन एक प्रमुख कार्यक्रम है. इसका पहला सम्मेलन नागपुर, महाराष्ट्र में 10-12 जनवरी 1975 में आयोजित किया गया, और इसका उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी ने किया था. तब से, दुनिया के विभिन्न हिस्सों में इसके दस सम्मेलन आयोजित किए जा चुके है. पहले सम्मेलन में, तत्कालीन मॉरीशस के प्रधानमंत्री सेवुसागुर रामगुलाम मुख्य अतिथि थे और इसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था. पहले सम्मेलन को स्मरणीय बनाने के उदेश्य से, प्रत्येक वर्ष 10 जनवरी को ‘विश्व हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. विश्व हिंदी सम्मेलन का 10 वां संस्करण भोपाल, मध्य प्रदेश (भारत) में 2015 में “हिंदी जगत-विस्तर और संभावनायें” के विषय के साथ आयोजित किया गया था.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories: /

Month:

Tags: , , , , , ,

ऑपरेशन ‘निस्तार’ : भारतीय नौसेना ने यमन से 38 भारतीयों को सफलतापूर्वक निकाला

गुजरात में पोरबंदर बंदरगाह से प्रवेश करने के बाद भारतीय नौसेना के जहाज सुनयना ने 38 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक निकाला. इन भारतीयों को ऑपरेशन ‘निस्तार’ नामक मानवतावादी और आपदा राहत अभियान के तहत यमन में चक्रवात से प्रभावित सोकोट्रा द्वीप से बचाया गया था.

पृष्ठ भूमि

भारतीय नागरिक लगभग 10 दिनों से सोकोत्रा द्वीप के आसपास के इलाकों में गंभीर चक्रवात तूफान के कारण फंसे हुए थे. सफलतापूर्वक बचाए जाने और निकालने के बाद 38 भारतीय नागरिकों को सुरक्षित रूप से जहाज पर ले जाना शुरू कर दिया गया, और उन्हें चिकित्सा देखभाल, भोजन, पानी और टेलीफोन सुविधायेँ भी प्रदान की गई ताकि वे अपने परिवार को सूचित कर सकें कि वे सुरक्षित हैं. सभी के सुरक्षित होने की खबर है. भारतीय नौसेनिक जहाज सुनयना ने किसी अन्य जीवित व्यक्ति की तलाश करने के लिए क्षेत्र की सतह खोज भी की. बचाव कार्य के बाद जहाज पोरबंदर की ओर वापिस रवाना हो गया.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement