स्थानविशेष करेंट अफेयर्स

वस्त्र क्रेता-विक्रेता सह सुविधा शिविर का उद्घाटन

केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी ने कर्नाटक के लिए 100 करोड़ रुपए के टेक्सटाईल पार्क लाने की बात कही है. मंत्री ने वस्त्र क्षेत्र के क्रेता-विक्रेता सह-सुविधा शिविर का उद्घाटन किया और बेंगलुरु में पावर टेक्स पोर्टल और मोबाइल ऐप के शुभारंभ के अवसर पर वस्त्र मंत्री ने राज्य सरकार से कपड़ा पार्क के लिए जमीन उपलब्ध कराने को कहा. रेशम बुनकरों की सहायता के रूप में उन्होंने बताया कि मंत्रालय राज्य में यार्न बैंक की स्थापना के लिए पांच करोड़ रुपये की मंजूरी देने के लिए तैयार है.

सोलर ऊर्जा अपनाने वालों के लिए मंत्रालय 50-90 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करेगा और मानव निर्मित फाइबर के भविष्य के लिए एक रोड मैप वस्त्र उद्योग के सहयोग से तैयार है. परिधान उद्योग में कौशल विकास के लिए मंत्रालय ने 1,300 करोड़ रुपये का पैकेज घोषित किया है.

केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री ने रेशम उत्पादक किसानों को आश्वासन दिया कि प्रधानमंत्री के साथ परामर्श के बाद रेशम पर आयात शुल्क में 20-35 प्रतिशत की वृद्धि करने का अनुरोध किया जाएगा.सरकार ने कर्नाटक में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से विकास के कई कदम उठाएं है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

सौर ऊर्जा पर पूर्ण रूप से चलने वाला दीव पहला संघ राज्य क्षेत्र बना

देश में सौर ऊर्जा पर पूर्ण रूप से चलने वाले दीव पहला और एकमात्र संघ राज्य क्षेत्र बन गया हैं। दीव कुल मिलाकर 13 मेगावाट बिजली सोलर पावर के माध्यम से उत्पादन करता है। इनमें से 3 मेगावाट छत आधारित सौर संयंत्रों और 10 मेगावाट अन्य सौर ऊर्जा संयंत्रों द्वारा निर्मित होती है।

मुख्य तथ्य

बिजली की दीव में पीक-समय की मांग 7 मेगावाट तक बढ़ जाती है और अब यह सौर ऊर्जा से रोजाना 10.5 मेगावाट बिजली उत्पन्न करता है, जिससे यहाँ बिजली अधिक पैदा होती है। भूमि की कमी के बावजूद, सौर ऊर्जा संयंत्रों को 50 एकड़ से अधिक स्थानों पर स्थापित किया गया है। सौर ऊर्जा भी स्थानीय निवासियों के लिए बड़ी राहत के रूप में आई है क्योंकि उनका मासिक बिल शुल्क लगभग 12% तक गिर गया है। इससे बिजली के नुकसान में काफी कमी आई है।

पृष्ठभूमि

दीव में सिर्फ 42 वर्ग किलोमीटर और 56,000 की आबादी है। पानी और बिजली के लिए, पूरी तरह यह गुजरात सरकार पर निर्भर था । पहले गुजरात सरकार की स्वामित्व वाली बिजली ग्रिड से आपूर्ति की गई जिससे बड़ी मात्रा में नुकसान हो रहा था। इसको दूर करने के लिए, दीव प्रशासन ने सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने का निर्णय लिया ।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement