स्थानविशेष करेंट अफेयर्स

भारत में कोरिया के एम्बेसडर ने “जयपुर फुट कोरिया” को लांच किया

भारत में दक्षिण कोरिया के एम्बेसडर बोंग-किल शिन ने हाल ही में “जयपुर फुट कोरिया” को लांच किया, यह दक्षिण कोरिया तथा भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति के बीच एक साझा पहल है।

मुख्य बिंदु

दक्षिण कोरिया ने भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति को प्रोस्थेटिक अंग निर्माण के क्षेत्र में सहायता प्रदान करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं।

समझौते के तहत दक्षिण कोरिया भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति को वित्तीय तथा तकनीकी सहायता प्रदान करेगा। इसके अलावा भारत और कोरिया के बीच मेडिकल टेक्नोलॉजी के सेक्टर में व्यापार को बढ़ावा दिया जायेगा, इसमें प्रोस्थेटिक अंग, बायोनिक एआरएम, 3डी प्रिंटेड बेस्ड फ्लैट फुट इत्यादि प्रमुख है।

भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति

भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति 1.78 मिलियन दिव्यांगजनों के लिए विश्व का सबसे बड़ा पुनर्वास संगठन है, इसकी देश भर में 23 से अधिक शाखाएं हैं। यह संगठन ज़रुरतमंद लोगों को कृत्रिम अंग इत्यादि निशुल्क प्रदान करता है। भगवान् महावीर विकलांग सहायता समिति को राजस्थान सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट के तहत पंजीकृत किया गया है, इसका मुख्यालय राजस्थान के जयपुर में स्थित है।

जयपुर फुट

यह एक हल्का व टिकाऊ प्रोस्थेटिक (कृत्रिम) अंग है। जिन लोगों के घुटने से नीचे का हिस्सा नहीं है, यह रबर-बेस्ड प्रोस्थेटिक लेग उनके लिए उपयोगी है। यह काफी सस्ता है, जिसके कारण इसका उपयोग देश भर में बड़े पैमाने पर किया जाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

ऑपरेशन सनराइज 2 : भारत और म्यांमार की सेनाओं ने उत्तर-पूर्व में आतंकियों के विरुद्ध कार्यवाही की

भारत और म्यांमार की सेनाओं ने अपनी सीमा के निकट के क्षेत्र में “ऑपरेशन सनराइज 2” का आयोजन किया, इसका आरम्भ 16 मई, 2019 को हुआ था। यह ऑपरेशन तीन सप्ताह तक चला। इस ऑपरेशन के दौरान कई आतंकी शिविरों को नष्ट किया गया। इस ऑपरेशन के तहत मणिपुर, नागालैंड और असम में सक्रीय आतंकी समूहों को निशाना बनाया गया। यह ऑपरेशन सनराइज का दूसरा संस्करण था।

मुख्य बिंदु

इस ऑपरेशन में भारतीय सेना की ओर से असम राइफल्स ने हिस्सा लिया। इस ऑपरेशन के दौरान दोनों देशों की सेनाओं ने NSCN-K (नेशनल सोशलिस्ट कौंसिल ऑफ़ नागालैंड – खापलांग), कामतापुर लिबरेशन आर्गेनाईजेशन, यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ़ असम (उल्फा) तथा नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ़ बोरोलैंड) इत्यादि के विरुद्ध कार्यवाही की गयी। इस ऑपरेशन के तहत उक्त आतंकी समूहों के 6 दर्ज़न आतंकियों को पकड़ा गया तथा कई आतंकी शिविरों को नष्ट किया गया।

ऑपरेशन सनराइज 1 का आयोजन फरवरी 2019 में भारत-म्यांमार सीमा के साथ किया गया था, इस ऑपरेशन में कई आतंकी शिविरों को नष्ट किया गया था। इस ऑपरेशन के दौरान भारतीय सेना ने अरकान आर्मी (म्यांमार का आतंकी समूह) के विरुद्ध कार्यवाही की थी। यह आतंकी समूह कलादान मल्टीमोडल ट्रांजिट ट्रांसपोर्ट प्रोजेक्ट के खिलाफ था।

कलादान मल्टीमोडल ट्रांजिट ट्रांसपोर्ट प्रोजेक्ट

कलादान मल्टीमोडल ट्रांजिट ट्रांसपोर्ट प्रोजेक्ट  का उद्देश्य भारत के कलकत्ता को म्यांमार के सित्तवे बंदरगाह से जोड़ना है। इसके लिए सित्तवे बंदरगाह को म्यांमार में लाशियो से जोड़ा जायेगा, इसके बाद कालादन नदी पर नाव के द्वारा यात्रा की जा सकती है, इसके बाद लाशियो से मिजोरम तक सड़क मार्ग की सुविधा है। इस मार्ग के द्वारा मिजोरम और कलकत्ता के बीच की दूरी में लगभग 1000 किलोमीटर की कमी आएगी। इससे वस्तुओं की ढुलाई में लगने वाले समय में भी कमी होगी।

इस मार्ग के द्वारा मिजोरम को म्यांमार से होते हुए सामान भेजा जा सकता है। इसके अतिरिक्त कलकत्ता से मिजोरम तक सामान ले जाने में समय की बचत होगी तथा लागत भी कम आएगी। यह भारत की एक्ट-ईस्ट पालिसी का हिस्सा है। इसे दक्षिण-पूर्वी एशिया से भारत के व्यापारिक सम्बन्ध भी मज़बूत होंगे। आर्थिक, वाणिज्यिक तथा सामरिक लाभ के अलावा म्यांमार के विकास में भी इसकी भूमिका महत्वपूर्ण होगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

Advertisement