विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी करेंट अफेयर्स

आईआईटी द्वारा कांजीकोड कैंपस में डाटा साइंस सेंटर स्थापित किया जाएगा

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान(IIT), पलक्कड़ ने डाटा साइंस अनुसंधान केंद्र की स्थापना करने का निर्णय लिया है। कांजीकोड में स्थापित किए जाने वाले इस केंद्र का उद्देश्य आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डाटा साइंस अनुसंधान के लिए एक प्लेटफॉर्म प्रदान करना है।

मुख्य बिंदु

इस केंद्र का नाम ‘सेंटर फॉर रिसर्च एंड एजुकेशन इन डाटा साइंस’ रखा गया है। यह डाटा साइंस सेंटर  सरकार, उद्योगों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों के साथ मिलकर कार्य करेगा।

डाटा साइंस क्या है?

डाटा साइंस वह क्षेत्र है जो असंरचित (unstructured)  और संरचित (structured)  डाटा से जानकारी निकालने के लिए वैज्ञानिक एल्गोरिदम, प्रक्रियाओं और विधियों का उपयोग करता है।

डाटा स्थानीयकरण (डाटा लोकलाइजेशन)  लिए डाटा साइंस का विकास अत्याधिक महत्वपूर्ण है

डाटा स्थानीयकरण क्या है? (What is Data Localization?)

डाटा स्थानीयकरण से अभिप्राय उन नियमों, कानूनों और विनियमों से है जो एक राष्ट्र के नागरिकों की डाटा के संग्रह का वर्णन करते हैं। इसमें डाटा का प्रसंस्करण और भंडारण भी शामिल है।

डाटा लोकलाइज़ेशन पर भारतीय कानून

वर्तमान में भारत में डाटा स्थानीयकरण पर एकमात्र आदेश भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी किया गया है, यह आदेश केवल भुगतान प्रणालियों के लिए दिया गया था। हालांकि, डाटा लोकलाइजेशन पर कई ड्राफ्ट बिल और रिपोर्ट हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

हैदराबाद में किया जाएगा बायो एशिया 2020 का आयोजन

तेलंगाना सरकार हैदराबाद में 17-19 फरवरी, 2020 के दौरान बायो-एशिया शिखर सम्मेलन 2020 का आयोजन करेगी। इस शिखर सम्मेलन में जीव विज्ञान कंपनियों तथा उनके निवेश की क्षमताओं पर फोकस किया जाएगा।

मुख्य बिंदु

इस शिखर सम्मेलन में अनुसंधानकर्ता, निवेशक, स्टार्टअप्स तथा स्वास्थ्य प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन में जीव विज्ञान उद्योग के विकास पर बल दिया जाएगा। इस शिखर सम्मेलन की थीम ‘Today for Tomorrow’ है।

भारत में बायोटेक्नोलॉजी

भारतीय एशिया प्रशांत क्षेत्र में तीसरा सबसे बड़ा बायोटेक्नोलॉजी हब है। विश्व भर में USFDA ((United States Food and Drug Administration)) प्रमाणित 523 भारतीय स्वामित्व वाले प्लांट हैं। भारत BCG, DPT और मीज़ल्स टीके का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है।

2018 में बायोटेक्नोलॉजी उद्योग का मूल्य लगभग 51 अरब डॉलर था, इसमें प्रतिवर्ष 14.7% की दर से वृद्धि हो रही है।

राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन

केन्द्रीय विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने 2017 में विश्व बैंक की सहायता से राष्ट्रीय बायोफार्मा मिशन लांच किया था। इस मिशन में बायोटेक्नोलॉजी क्षेत्र में 250 मिलियन डॉलर के निवेश का अनुमान लगाया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement