विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी करेंट अफेयर्स

आज रात चंद्रयान-2 चन्द्रमा की सतह पर लैंड करेगा

भारत चंद्रयान-2 मिशन अपनी मंजिल के काफी करीब पहुँच गया है। आज रात 1 से 2 बजे के बीच लैंडर ‘विक्रम’ को चन्द्रमा की सतह पर लैंड किया जायेगा।  ‘विक्रम’ चन्द्रमा की सतह को स्कैन करके लैंडिंग स्थल का चयन स्वयम करेगा, यह निर्णय सतह से मात्र 100 मीटर ऊपर लिया जायेगा। ‘विक्रम’ की सफल सॉफ्ट लैंडिंग के बाद उसके भीतर से ‘प्रज्ञान’ नामक रोवर बाहर निकलेगा और चन्द्रमा की सतह पर अनुसन्धान का कार्य करेगा।

मिशन चंद्रयान-2

चंद्रयान-2 भारत का चंद्रमा पर दूसरा मिशन है, यह भारत का अब तक का सबसे मुश्किल मिशन है। यह 2008 में लांच किये गए मिशन चंद्रयान का उन्नत संस्करण है। चंद्रयान मिशन ने केवल चन्द्रमा की परिक्रमा की थी, परन्तु चंद्रयान-2 मिशन में चंद्रमा की सतह पर एक रोवर भी उतारा जायेगा।

इस मिशन के सभी हिस्से इसरो ने स्वदेश रूप से भारत में ही बनाये हैं, इसमें ऑर्बिटर, लैंडर व रोवर शामिल है। इस मिशन में इसरो पहली बार चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड रोवर को उतारने की कोशिश करेगा। यह रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके चन्द्रमा की सतह के घटकों का विश्लेषण करेगा।

चंद्रयान-2 को GSLV Mk III से लांच किया जायेगा। यह इसरो का ऐसा पहला अंतर्ग्रहीय मिशन है, जिसमे इसरो किसी अन्य खगोलीय पिंड पर रोवर उतारेगा। इसरो के स्पेसक्राफ्ट (ऑर्बिटर) का वज़न 3,290 किलोग्राम है, यह स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा की परिक्रमा करके डाटा एकत्रित करेगा, इसका उपयोग मुख्य रूप से रिमोट सेंसिंग के लिए किया जा रहा है।

6 पहिये वाला रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके मिट्टी व चट्टान के नमूने इकठ्ठा करेगा, इससे चन्द्रमा की भू-पर्पटी, खनिज पदार्थ तथा हाइड्रॉक्सिल और जल-बर्फ के चिन्ह के बारे में जानकारी मिलने की सम्भावना है।

चन्द्रमा की सतह पर सॉफ्ट-लैंडिंग करना इस मिशन का सबसे कठिन हिस्सा होगा, अब तक केवल अमेरिका, रूस और चीन ही यह कारनामा कर पाए हैं। इजराइल का स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा पर क्रेश हो गया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

IIT खड़गपुर और अमेज़न वेब सर्विसेज ने ‘नेशनल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रिसोर्स पोर्टल’ लांच किया

IIT खड़गपुर ने अमेज़न वेब सर्विसेज के साथ मिलकर ‘नेशनल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रिसोर्स पोर्टल’ (NAIRP) लांच किया है। इसका उद्देश्य आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के अध्ययन तथा विकास को बढ़ावा देना है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (कृत्रिम बुद्धि) कंप्यूटर साइंस की वह शाखा है जिसके द्वारा मशीनों में इंसानों की तरह सोचने समझने की क्षमता विकसित की जाती है। AI मशीने वातावरण के अनुसार खुद को ढालने में सक्षम होती हैं।

IIT खड़गपुर

IIT खड़गपुर की स्थापना – 1951 में की गयी थी, यह पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में स्थित है। IIT खड़गपुर के चेयरमैन संजीव गोएंका हैं। IIT खड़गपुर का आदर्श वाक्य योगः कर्मसु कौशलम् है। IIT खड़गपुर  के कुछ प्रमुख एलुमनाई सुन्दर पिचाई, अरविन्द केजरीवाल, डी. सुब्बाराव, के. राधाकृष्णन तथा अरुण सरीन इत्यादि हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement