राज्यों के करेंट अफेयर्स

बिहार विधानसभा ने पारित किया बिहार मद्य निषेध व उत्पाद (संशोधन) विधेयक, 2018

बिहार विधानसभा ने बिहार मद्य निषेध व उत्पाद (संशोधन) बिल, 2018 पारित किया। इस बिल के द्वारा बिहार मद्य निषेध व उत्पाद अधिनियम, 2016 में 16 संशोधन किये गए और कुछ एक कड़े प्रावधानों को कम किया गया।  बिहार मद्य निषेध व उत्पाद अधिनियम, 2016 को बिहार सरकार ने अप्रैल, 2016 में लागू किया गया था, इसके तहत बिहार में शराब के उत्पादन, विक्रय और उपभोग पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था।

मुख्य परिवर्तन

नए संशोधन के तहत यदि किसी व्यक्ति को पहली बार शराब सेवन का दोषी पाया जाता है, तो उसके लिए जेल की सज़ा अनिवार्य नहीं है। पहली बार उसे 50,000 रुपये का जुर्माना अथवा 3 महीने जेल की सजा काटनी होगी। बार-बार अपराध को दोहराने पर जेल की सजा को 1 से 5 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है और जुर्माना 1 लाख रुपये निश्चित किया गया है।

आरम्भ में बिहार मद्य निषेध व उत्पाद अधिनियम, 2016 में किसी एक व्यक्ति के शराब सेवन अथवा भण्डारण के दोषी पाए जाने पर पूरे परिवार के व्यस्क सदस्यों को गिरफ्तार किये जाने का प्रावधान था, इस संशोधन के द्वारा इस प्रावधान को हटा दिया गया है। नए संशोधन के अनुसार किसी घर अथवा वहां को ज़ब्त नहीं किया जायेगा जहाँ से शराब बरामद हुई है। परन्तु यदि किसी दूकान, होटल, बिल्डिंग, रेस्टोरेंट इत्यादि में शराब बरामद की जाती है जो उसे सील किया जा सकता है।

आरम्भ में पहली बार शराब उत्पादन, सेवन अथवा भण्डारण का दोषी पाए जाने पर 10 वर्ष की जेल तथा 10 लाख रुपये के जुर्माने का प्रावधान था। संशोधन में जेल की सजा को 5 वर्ष तथा जुर्माने को कम करके 1 लाख रुपये किया गया है। मूल अधिनियम में किसी स्थान पर शराब के नियमित उत्पादन के कारण स्थानीय क्षेत्र में सभी पर जुर्माना लगाये जाने का प्रावधान था, संशोधन के द्वारा इस प्रावधान को भी हटा दिया गया है।

Categories: /

Month:

Tags: , ,

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में किया गया क्षेत्रीय रेल प्रशिक्षण संस्थान का उद्घाटन

भारतीय रेल ने क्षेत्रीय रेल प्रशिक्षण संस्थान का उद्घाटन हाल ही में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में किया। इसका उद्देश्य उत्तर-पूर्वी रेलवे के कर्मचारियों की कार्यकुशलता में वृद्धि करना है। इसके अतिरिक्त गाज़िरपुर सिटी स्टेशन में 19.62 करोड़ रुपये की लागत से बने 400 मीटर लम्बे वशित पिट का उद्घाटन भी किया गया। यह उद्घाटन राज्य रेल मंत्री मनोज सिन्हा ने किया।

क्षेत्रीय रेल प्रशिक्षण संस्थान (RRTI)

क्षेत्रीय रेल प्रशिक्षण संस्थान का निर्माण 21 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है। इसमें रेलवे कर्मचारियों को सभी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएँगी। इस संस्थान की स्थापना का मुख्य उद्देश्य रेलवे कर्मचारियों की कार्यकुशलता और विशेषज्ञता में वृद्धि करना है। इस संसथान में आधुनिक मॉडल हॉस्टल, कंप्यूटर कक्ष, कैफ़े और अन्य सभी आधुनिक सुविधाएँ मौजूद हैं। इससे क्षेत्र के विकास में भी काफी सहायता मिलेगी।

भारतीय रेल

भारतीय रेल, रेल मंत्रालय के अधीन कार्य करता है। भारतीय रेलवे विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है, भारत में कुल 1,21,407 किलोमीटर लम्बा रेलवे ट्रैक है। भारतीय रेलवे की स्थापना 8 मई, 1845 में की गयी थी। भारतीय रेल की रोजोना लगभग 13,000 यात्री रेलें चलती हैं। भारतीय रेल विश्व का आठवां सबसे बड़ा नौकरीदाता है, इसमें लगभग 13 लाख से अधिक लोग कार्यरत्त हैं।

Categories: /

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement