COVID-19 महामारी के कारण जनगणना 2021 और NPR अपडेशन स्थगित किया गया

भारत सरकार ने दो चरणों में जनगणना करने की योजना बनाई थी। पहला चरण अप्रैल-सितंबर, 2020 के बीच निर्धारित किया गया था और दूसरा चरण फरवरी 2021 में निर्धारित किया गया था। इसके अलावा कोरोना वायरस के प्रसार के कारण एनपीआर का अपडेशन भी स्थगित कर दिया गया है।

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR – National Population Register)

NPR अपडेशन को जनगणना 2021 के साथ आयोजित किया जाना था। इसे गृह मंत्रालय के अधीन भारत के रजिस्ट्रार जनरल के कार्यालय द्वारा संचालित किया जायेगा। असम एकमात्र राज्य था जिसे एनपीआर प्रक्रिया से बाहर रखा जाना था क्योंकि असम राज्य के रजिस्टर का अपडेशन नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स के तहत किया गया था।

पृष्ठभूमि

एनपीआर के लिए डाटा पहली बार 2010 में जनगणना 2011 के साथ एकत्र किया गया था। इस डाटा को 2015 में एक डोर-टू-डोर सर्वेक्षण के तहत अपडेट किया गया था। एनपीआर बायोमेट्रिक और जनसांख्यिकीय डाटा एकत्र करता है। आधार डिटेल के माध्यम से बायोमेट्रिक डाटा को अपडेट किया जायेगा।

यह पहली बार है जब एनपीआर बायोमेट्रिक डाटा एकत्रित कर रहा है। इससे पहले 2010 में, केवल जनसांख्यिकीय विवरण एकत्र किए गए थे। बाद में 2015 में डाटा को आधार, राशन कार्ड नंबर और मोबाइल नंबर के साथ अपडेट किया गया था।

Month:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments