ICMR ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा की सिराफिश की

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने COVID-19 के खिलाफ लड़ने के लिए एक राष्ट्रीय कार्यबल का गठन किया था। इस टास्क फोर्स ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के उपयोग की सिफारिश की है।

मुख्य बिंदु

इस टास्क फोर्स के अनुसार, हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का उपयोग अलक्ष्णी (asymptomatic) स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों के इलाज के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों और रोगियों के घरेलू संपर्क में आने वाले लोगों के उपचार के लिए किया जायेगा जो अलक्ष्णी (asymptomatic) हैं।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine)

यह दवा केवल पर्ची (prescription) के माध्यम से रोगियों को प्रदान की जाएगी। भारत सरकार फार्माकोविजिलेंस प्रोग्राम एप्प या हेल्पलाइन के उपयोग की सिफारिश करती है। इस एप्लिकेशन के द्वारा दवा प्रतिक्रियाओं की आत्म-रिपोर्टिंग की जा सकती है। इसके अलावा, दवा लेते समय अलक्ष्णी (asymptomatic) लोगों को एक स्व-संगरोध (self-quarantine) बनाए रखना चाहिए।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन ही क्यों?

यह दवा आमतौर पर मलेरिया के रोगियों को दी जाती है। हालाँकि, वर्तमान में इसका उपयोग COVID-19 के प्रायोगिक उपचार के रूप में किया जा रहा है। दक्षिण कोरिया और इटली दोनों ही COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए इस दवा का उपयोग कर रहे हैं। अमेरिका ने भी अपने प्रारंभिक चरण में इस दवा की दक्षता की पुष्टि की है।

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments