करेंट अफेयर्स - अप्रैल, 2019

सेना चिकित्सा कोर  का स्थापना दिवस मनाया गया

3 अप्रैल, 2020 को सेना चिकित्सा कोर का स्थापना दिवस मनाया गया।

आदर्श वाक्य: “सर्वे संतू निरामया” 

“सर्वे संतु निरामयाः” का अर्थ है “सभी मनुष्यों का अक्षमताओं और बीमारियों से मुक्त होना”।

मुख्य बिंदु

सेना मेडिकल कोर सशस्त्र कर्मियों के लिए अलगाव, स्क्रीनिंग और उपचार सुविधाओं की स्थापना में सक्रिय रूप से शामिल रही है। मौजूदा COVID-19 संकट में भी ऐसा किया जा रहा है। वे अपनी गुणवत्ता रोगी देखभाल के लिए जाने जाते हैं।

सेना चिकित्सा कोर

सेना चिकित्सा कोर सेना के जवानों तथा उनके परिवारों को चिकित्सा सेवाएं प्रदान करते हैं। भारतीय चिकित्सा सेवा, भारतीय अस्पताल व नर्सिंग कोर और भारतीय चिकित्सा विभाग को सम्‍मिलित करते हुए 1943 में आर्मी मेडिकल कोर की स्‍थापना की गई। 1918 तक, भारतीय सैनिकों के पास अलग से अस्पताल की सुविधा नहीं थी।

भारतीय चिकित्सा सेवा

भारतीय चिकित्सा सेवा, सेना चिकित्सा कोर का प्रमुख योगदानकर्ता था। इसका गठन 1612 में हुआ था जब ईस्ट इंडिया कंपनी का गठन किया गया था। 1912 में सेवा का भारतीयकरण शुरू हुआ। तब तक केवल ब्रिटिश डॉक्टरों और सर्जनों की नियुक्ति की जाती थी और ब्रिटिश कर्मियों को प्राथमिकता दी जाती थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month: /

Tags: , ,

ICMR ने COVID-19 के लिए भारत की पहली होम स्क्रीनिंग टेस्ट किट को मंजूरी दी

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने हाल ही में होम टेस्टिंग COVID-19 किट को मंजूरी दी है, इस किट को Bione नामक एक स्टार्टअप द्वारा डिजाइन किया गया है।

मुख्य बिंदु

इस किट की कीमत 2,000 रुपये से 3,000 रुपये के बीच हैं। इस परीक्षण के लिए व्यक्ति को अपनी उंगली को अल्कोहल से साफ करना होगा और उंगली को चुभने के लिए किट में दिए गये लैंसेट का उपयोग करना होगा। किट उस रक्त की जांच करती है जो चुभन से निकलता है, यह परिणाम को 5 से 10 मिनट में प्रदर्शित करता है।

Bione

इस कंपनी का मुख्यालय बेंगलुरु में है और भारत में नेक्स्ट जनरेशन सीक्वेंसिंग लाने वाली पहली कंपनी है। वर्तमान में यह देश की एकमात्र कंपनी है जो व्यक्तिगत जेनेटिक और माइक्रोबायोम परीक्षण की पेशकश कर रही है।

नेक्स्ट जनरेशन सीक्वेंसिंग

यह वह तकनीक है जिसके द्वारा किसी व्यक्ति को डीएनए अणुओं के अनुक्रम को निर्धारित किया जा सकता है। इस तकनीक मूल रूप से एक डीएनए अणु के चार आधारों के क्रम को निर्धारित करती है, जैसे कि एडेनिन, साइटोसिन, गुआनिन और थाइमिन।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month: /

Tags: , , ,

Advertisement