करेंट अफेयर्स - अप्रैल, 2019

इनसाइट मार्स लैंडर ने मंगल ग्रह पर भूकंप का पता लगाया

नासा के इनसाइट लैंडर ने हाल ही में मंगल ग्रह पर भूकंप का पता लगाया है। नासा के वैज्ञानिक अभी इस हलचल के स्त्रोत के बारे में पता कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का मत है कि यह हलचल हवा तथा लैंडर की रोबोटिक एआरएम के कारण नहीं हुई है बल्कि यह घटना मंगल ग्रह से सतह से हुई है। यदि इस बात की पुष्टि हो जाती है तो यह मंगल ग्रह पर डिटेक्ट की जाने वाली पहली भूकंपीय गतिविधि होगी।

 इनसाईट मिशन

नासा का इनसाईट मिशन (Interior Exploration using Seismic Investigations, Geodesy and Heat Transport – InSight)  एक रोबोटिक लैंडर है जो मंगल गृह के आंतरिक हिस्से के बारे में जानकारी एकत्रित करेगा। इस मिशन को नासा ने 5 मई, 2018 को लांच किया था, इसने 26 नवम्बर, 2018 को 483 मिलियन किलोमीटर की यात्रा के बाद मंगल गृह पर लैंडिंग की थी।

इस मिशन के सफल क्रियान्वयन के कारण सौर मंडल के आन्तरिक ग्रहों के विकास के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सकती है। इनसाईट का प्रमुख कार्य सिसमोमीटर मीटर (SEIS) स्थापित करना है, इससे मंगल गृह की भूकंपीय गतिविधियों को मापा जा सकता है। मंगल गृह के भूगर्भिक अध्ययन के लिए इनसाईट  HP3 नामक हीट प्रोब का उपयोग करेगा, इससे ऊष्मा के वहन को मापा जा सकता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

बेपी कोलोंबो मिशन बुध गृह की लम्बी यात्रा के लिए तैयार

जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी तथा यूरोपियन स्पेस एजेंसी के बेपी कोलोंबो मिशन ने विभिन्न परीक्षणों की श्रृंखला पास कर ली है, इस मिशन पृथ्वी के निकट का कमीशनिंग फेज़ भी पूरा कर लिया है। अब बेपी कोलोंबो बुध ग्रह की यात्रा के लिए तैयार है।

जापान तथा यूरोप की अन्तरिक्ष एजेंसियों ने मिलकर बुध गृह के लिए बेपी कोलोंबो अन्तरिक्ष यान लांच किया था। इस अन्तरिक्ष यान को फ्रेंच गुयाना से लांच किया गया था। यह अन्तरिक्ष यान 7 वर्ष बाद बुध गृह तक पहुंचेगा। इसके बाद यह अन्तरिक्ष यान बुध गृह की परिक्रमा करेगा।

मुख्य बिंदु

इस मिशन के लिए यूरोपीय अन्तरिक्ष एजेंसी (ESA) तथा जापानी अन्तरिक्ष अनुसन्धान एजेंसी (JAXA) ने मिलकर कार्य किया, इस मिशन की लागत लगभग 2 अरब डॉलर थी। बेपी कोलोंबो अन्तरिक्ष यान को एरियन 5 राकेट की सहायता से लांच किया। यह अन्तरिक्ष यान सात वर्ष के बाद बुध गृह के निकट पहुंचेगा तथा बुध ग्रह का निरीक्षण शुरू करेगा। यह अन्तरिक्ष यान बुध की सतह तथा वायुमंडल का अध्ययन करेगा। इससे पहले नासा ने बुध गृह के अध्ययन के लिए मैसेंजर नामक यान भेजा था, चार वर्ष तक कार्य करने के बाद 2015 में इसका मिशन समाप्त हुआ था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement