करेंट अफेयर्स - अप्रैल, 2019

COVID​​-19 के मानव और पशु संचरण को रोकने के लिए टास्क फोर्स का गठन किया जायेगा

COVID-19 द्वारा जानवरों को संक्रमित किये जाने की ख़बरों के बाद भारत सरकार ने एहतियाती कदम उठाने का निर्णय लिया है। हाल ही में न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर में एक बाघ के COVID-19 से संक्रमित होने की सूचना मिली थी।

मुख्य बिंदु

देश में वायरस के मानव और पशु संचरण को रोकने के लिए भारत एहतियाती कदम उठा रहा है। केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को निर्देश दिया है कि वे मनुष्यों से जानवरों तक वायरस के प्रसार को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाएं।

उठाए गए कदम

चिड़ियाघरों, राष्ट्रीय उद्यानों, बाघ अभयारण्यों और अभयारण्यों में कर्मचारियों की संख्या सीमित होनी चाहिए। फील्ड मैनेजर, पशु चिकित्सक और फ्रंट-लाइन कर्मचारी के साथ एक टास्क फोर्स स्थापित की जायेगी। इसके अलावा, एक नोडल अधिकारी को निरंतर रिपोर्ट करने के लिए नियुक्त किया जायेगा।

यह मुख्य रूप से अभयारण्यों, राष्ट्रीय उद्यानों और बाघ अभयारण्यों में और आसपास के कर्मचारियों व अन्य स्थानीय लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करने के लिए किया जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month: /

Tags: , , , ,

केंद्र सरकार ने राज्यों को मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति बनाए रखने के निर्देश दिए

केंद्र सरकार ने राज्यों को मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति सुचारू और परेशानी मुक्त बनाए रखने के लिए कहा है। मेडिकल ऑक्सीजन आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची में और आवश्यक दवाओं की डब्ल्यूएचओ सूची में भी शामिल है।

मेडिकल ऑक्सीजन क्या है?

मेडिकल ऑक्सीजन शुद्ध ऑक्सीजन है। इसमें 99.5% शुद्ध ऑक्सीजन होती है। आमतौर पर, जिस हवा में हम सांस लेते हैं, उसमें 21% ऑक्सीजन होती है। जब वायुमंडल में अशुद्धियां बढ़ती हैं, तो ऑक्सीजन की एकाग्रता घट जाती है।

उदाहरण के लिए, एक औद्योगिक इकाई सल्फर का उत्सर्जन करती है। यूनिट के पास खड़ा व्यक्ति जब हवा में सांस लेता है जो ऑक्सीजन की एकाग्रता कम होती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हवा में ऑक्सीजन सल्फर के साथ मिलकर सल्फर डाईऑक्साइड बनाता है।

जिन शहरों में प्रदूषण का स्तर अधिक है, वहां वायुमंडलीय हवा रोगी को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं देती पाती। मेटाबोलिक गतिविधियों और स्वास्थ्य सुधार के लिए ऑक्सीजन अत्यधिक महत्वपूर्ण है। इसलिए, चिकित्सा ऑक्सीजन को सामान्य हवा के साथ जोड़ा जाता है और रोगियों को दिया जाता है।

आवश्यक दवाओं की सूची

आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची डब्ल्यूएचओ की आवश्यक दवाओं की सूची का एक मॉडल है। आवश्यक दवाएं वे दवाएं हैं जो आबादी की प्राथमिक स्वास्थ्य आवश्यकताओं को पूरा करती हैं।  तंजानिया 1970 में आवश्यक दवाओं की सूची बनाने वाला विश्व का पहला देश था। डब्ल्यूएचओ ने 1977 में आवश्यक दवाएं प्रकाशित की थी। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, किसी देश की आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची देश की बीमारी के बोझ पर निर्भर करती है।

आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची

भारत की पहली आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची 1996 में जारी किया की गयी थी। इस सूची में 279 दवाएं शामिल थीं। 2003 में सूची को संशोधित करके दवाओं को 354 कर दिया गया। बाद में 2011 में सूची को 348 दवाओं के लिए अद्यतन किया गया था। 2018 में, सूची को 851 दवाओं के लिए अद्यतन किया गया था। पहली बार कार्डियक स्टेंट, कंडोम, ड्रग एल्यूटिंग स्टेंट और इंट्रा यूटेराइन डिवाइस को भारत में आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची के तहत रखा गया।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month: /

Tags: , , , ,

Advertisement