करेंट अफेयर्स – अगस्त, 2019

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 429.05 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंचा

23 अगस्त को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 1.45 बिलियन डॉलर की कमी  के साथ 429.05 अरब डॉलर तक पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत 8वें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

23 अगस्त, 2019 को विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $397.12 बिलियन
गोल्ड रिजर्व: $ 26.86 बिलियन
आईएमएफ के साथ एसडीआर: $ 1.43 बिलियन
आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $ 3.62 बिलियन

Month:

Tags: , , , ,

राजीव गौबा ने कैबिनेट सचिव का कार्यभार संभाला

राजीव गौबा ने कैबिनेट सचिव का कार्यभार संभाल लिया है, उनका कार्यकाल दो वर्ष का होगा। वे प्रदीप कुमार सिन्हा का स्थान लेंगे। राजीव गौबा 1982 बैच के झारखण्ड कैडर के आईएएस अधिकारी हैं। इससे पहले वे गृह मंत्रालय में सचिव के रूप में कार्यरत्त थे।

कैबिनेट सचिवालय

कैबिनेट सचिवालय प्रधानमंत्री के अधीन कार्य करता है। इसे भारत सरकार (कार्य वितरण) नियम, 1961 के तहत कार्य सौंपा गया है। यह कैबिनेट, कैबिनेट की समितियों इत्यादि को सचिव सम्बन्धी सहायता उपलब्ध करवाता है।

कैबिनेट सचिव

कैबिनेट सचिव, कैबिनेट सचिवालय का प्रशासनिक प्रमुख होता है। कैबिनेट सचिव सिविल सेवा बोर्ड का पदेन अध्यक्ष होता है। गौरतलब है कि कैबिनेट सचिव भारत सरकार में सबसे ऊपर का कार्यकारी अधिकारी तथा सबसे वरिष्ठ सिविल सर्वेंट (आईएएस कैडर) होता है। एन. आर. पिल्लई स्वतंत्र भारत के प्रथम कैबिनेट सचिव थे, उन्होंने 6 फरवरी, 1950 से 13 मई, 1953 तक कार्य किया है। सबसे लम्बे समय तक कार्य करने वाले कैबिनेट सचिव वाई.एन. सुकथनकर थे, उन्होंने 14 मई, 1953 से 31 जुलाई, 1957 तक कार्य किया।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement