करेंट अफेयर्स - अगस्त, 2020

इंडोनेशिया के माउंट सिनाबुंग ज्वालामुखी में विस्फोट हुआ

इंडोनेशिया के माउंट सिनाबुंग ज्वालामुखी में पुनः विस्फोट हो गया है। यह ज्वालामुखी 400 साल तक निष्क्रिय रहा और हाल ही में वर्ष 2010 और 2014 में इसमें विस्फोट हुआ था।

मुख्य बिंदु

यह पैसिफिक रिंग ऑफ फायर पर स्थित है जिसमें 120 से अधिक सक्रिय ज्वालामुखी हैं। माउंट सिनाबंग इंडोनेशिया के उत्तरी सुमात्रा द्वीप में स्थित है।

रिंग ऑफ़ फायर

पैसिफिक रिंग ऑफ फायर प्रशांत महासागर का एक प्रमुख क्षेत्र है जहां ज्वालामुखी विस्फोट और भूकंप आते हैं। दुनिया में लगभग 90% भूकंप इसी क्षेत्र में आते हैं। रिंग ऑफ़ फायर प्लेट टेक्टोनिक्स का प्रत्यक्ष परिणाम है।

भारत में ज्वालामुखी

भारत में एकमात्र सक्रिय ज्वालामुखी ‘बेरेन द्वीप’ अंडमान द्वीप समूह में स्थित है। अंडमान में ज्वालामुखी सुप्त हैं।

ज्वालामुखी के प्रकार

एक सक्रिय ज्वालामुखी वह ज्वालामुखी है जिसमें पिछले 10,000 वर्षों में कम से कम एक विस्फोट हुआ है। एक सक्रिय ज्वालामुखी सक्रीय या निष्क्रिय हो सकता है। एक निष्क्रिय ज्वालामुखी एक सक्रिय ज्वालामुखी है, जिसमे विस्फोट नही हो रहा है, लेकिन इसमें पुनः विस्फोट हो सकता है। एक विलुप्त ज्वालामुखी कम से कम 10,000 वर्षों तक प्रस्फुटित होता है और इसमें दोबारा विस्फोट की उम्मीद नहीं होती।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

हिमालयन जियोथर्मल स्प्रिंग्स द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड की विशाल मात्रा का उत्सर्जन किया गया

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत काम करने वाले वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी ने हिमालय के स्प्रिंग्स में गैस उत्सर्जन की जांच की। अध्ययन के अनुसार, हिमालय क्षेत्र में स्प्रिंग्स कार्बन डाइऑक्साइड का एक महत्वपूर्ण निर्वहन दिखाते हैं।

मुख्य बिंदु

हिमालय क्षेत्र में 600 से अधिक भूतापीय क्षेत्र हैं। वे क्षेत्रीय और वैश्विक जलवायु में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। ये 10,000 वर्ग किलो मीटर में फैले हुए हैं।

अध्ययन की मुख्य बातें

थर्मल स्प्रिंग्स से निकलने वाले कार्बन डाइऑक्साइड को कार्बोनेट चट्टानों के मेटामार्फ़िक डीकार्बोनेशन, मैग्माटिज़्म और ग्रेफ़ाइट के ऑक्सीकरण से प्राप्त किया जाता है। ये चट्टानें गहरे हिमालयी कोर में मौजूद हैं। क्षेत्र में जियोथर्मल चट्टानों का वाष्पीकरण और अपक्षय के साथ सिलिकेट चट्टानों का प्रभुत्व है।

वैज्ञानिकों ने गढ़वाल हिमालय के प्रमुख क्षेत्रों में 20 भू-तापीय झरनों से नमूने एकत्र किए। नमूनों में ऑक्सीजन और अकार्बनिक कार्बन जैसे समस्थानिक माप शामिल थे।

कार्बन चक्र

यह पृथ्वी के दीर्घकालिक और अल्पकालिक जलवायु को प्रभावित करता है। कार्बन चक्र में उन प्रक्रियाओं की श्रृंखला शामिल होती है जहां कार्बन यौगिक पर्यावरण में परस्पर जुड़े होते हैं। इसमें प्रकाश संश्लेषण द्वारा जीवित ऊतक में कार्बन डाइऑक्साइड को शामिल करना और श्वसन द्वारा वायुमंडल में वापस आना, जीवाश्म ईंधन का जलना और मृत जीवों का क्षय होना शामिल है।

कार्बन चक्र के चार मुख्य चरण प्रकाश संश्लेषण, अपघटन, श्वसन और दहन हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement