करेंट अफेयर्स– दिसंबर, 2018

अमेरिका ने भारत में यात्रा के लिए जारी किया जिका अलर्ट

हाल ही में अमेरिका के रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्र ने भारत में यात्रा करने वालों को जिका के खतरे से आगाह किया था, भारत सरकार ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसका विरोध जताया है। इस प्रकार के जिका अलर्ट से देश के पर्यटन उद्योग का काफी नुकसान हो सकता है।

मुख्य बिंदु

अमेरिका के रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्र ने भारत में गर्भवती महिलाओं को यात्रा करने के लिए एडवाइजरी जारी करते हुए कहा है कि भारत के जिका रोग स्थानिक है। गर्भवती महिला के जिका से संक्रमित हो जाने के कारण शिशु में जन्म से विकार हो सकते हैं। इसके अलावा यात्रियों को मच्छर के काटने इत्यादि के लिए रोकथाम की व्यवस्था करने के लिए कहा है।

इस एडवाइजरी में भारत को लेवल 2 में रखा गया है, इस लेवल में अधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता पड़ती है। जबकि लेवल 1 में सामान्य सावधानी बरतनी पड़ती है। जबकि लेवल 3 में गैर-आवश्यक यात्रा को न करने की सलाह दी जाती है।

भारत द्वारा खंडन

भारत ने अमेरिका के रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्र की एडवाइजरी का खंडन किया है। भारत में जिका को ‘स्थानिक’ बताये जाने पर भी विरोध प्रकट किया है, जबकि जिका से भारत में केवल कुछ ही स्थान प्रभावित हैं। पिछले वर्ष गुजरात में तीन जिका के मामले सामने आये थे। हाल ही में राजस्थान में भी जिका का एक मामला सामने आया था।

जिका

जिका मच्छर के कारण होने वाला एक रोग है, यह रोग जिका नामक वायरस के कारण होता है। पहली बार इस वायरस को 1947 में यूगांडा में बंदरों में पाया गया था। पांच वर्ष बाद यह वायरस इंसानों में पाया गया। अप्रैल 2015 में ब्राज़ील में जिका बड़े पैमाने पर फैला था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

हाइपरसोनिक परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” – महत्वपूर्ण तथ्य

हाल ही में रूस ने हाइपरसोनिक (अतिपराध्वनिक) परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” का सफल परीक्षण दक्षिणी यूराल पर्वत में दोम्बारोव्सकी मिसाइल बेस में किया। परीक्षण के दौरान इसने 6000 किलोमीटर दूर स्थित अपने लक्ष्य को कमचटका में कुरा शूटिंग रेंज में अपने लक्ष्य को सटीकता से भेदा।

महत्वपूर्ण तथ्य

अवनगार्ड हाइपरसोनिक ग्लाइड ग्लाइड व्हीकल ध्वनि से 27 गुना तेज रफ़्तार से अपने लक्ष्य को भेदता है। इसका निर्माण नए कंपोजिट मटेरियल से बनाया गया है, यह 2000 डिग्री सेल्सियस के ताप को सहने की क्षमता रखता है।  अवनगार्ड ज़मीन से कई दर्ज़न किलोमीटर ऊपर वायुमंडल में उड़ान भर सकता है, जिस कारण यह अधिकार एंटी-मिसाइल डिफेन्स सिस्टम को बायपास कर सकता है। अवनगार्ड की लम्बाई लगभग 5.4 मीटर है, यह 1 मेगाटन तक का परमाणु अथवा पारंपरिक हथियार ले जाने में सक्षम है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement