करेंट अफेयर्स– दिसंबर, 2018

असम के चिरांग जिले में शुरू हुआ द्विजिंग उत्सव

27 दिसम्बर, 2018 को असम के चिरांग जिले में आई नदी के किनारे द्विजिंग उत्सव की शुरुआत हुई। यह इस उत्सव का तीसरा संस्करण है। इस उत्सव का उद्घाटन असम के जन स्वास्थ्य इंजीनियरिंग मंत्री रिहोन दैमारी ने किया। इस उत्सव में 15 लाख पर्यटकों के आने का अनुमान लगाया गया है।

द्विजिंग उत्सव

द्विजिंग उत्सव असम का वार्षिक नदी उत्सव है, इसमें व्यापार, भोजन, प्रदर्शनी, खेल, नदी अभियान तथा एडवेंचर इत्यादि विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस दौरान नए वर्ष के उपलक्ष्य पर पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं। इस उत्सव के द्वारा क्षेत्र की अर्थव्यवथा को भी लाभ मिलता है। इस उस्तव के माध्यम से बाढ़ आपदा से पीड़ित लोगों की सहायता भी की जायेगी।

आई नदी

आई नदी का उद्गम भूटान में हिमालय के पर्वतों से होता है। यह असम में चिरांग और बोंगाईगांव जिले में बहने के बाद ब्रह्मपुत्र नदी से मिल जाती है। इस इस क्षेत्र में लगभग 30,000 परिवारों की जीवनरेखा है, यहपरिवारों को आई नदी से फसल, मतस्य, पत्थर तथा रेत इत्यादि के लिए निर्भर है। यह नदी पिकनिक इत्यादि गतिविधियों के लिए काफी लोकप्रिय है। इस नदी पर प्रसिद्ध हग्रमा पुल स्थित है।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

ओडिशा में किया गया राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भुबनेश्वर में राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन किया। इसका आयोजन 27 दिसम्बर से 31 दिसम्बर के बीच ओडिशा में किया जा रहा है। यह राष्ट्रीय विज्ञान कांग्रेस का 26वां संस्करण है।

इस कांग्रेस की थीम “स्वच्छ, हरित व स्वस्थ राष्ट्र के लिए विज्ञान, तकनीक व नवोन्मेष” है। राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन दूसरी बार ओडिशा में किया जा रह है। इस इवेंट में भारत, पांच खाड़ी देशों तथा आसियान देशों के बच्चें भाग ले रहे हैं।

राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस

राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस एक राष्ट्रव्यापी विज्ञान संचार कार्यक्रम है, इसकी शुरुआत 1993 में की गयी थी। यह भारत सरकार के अधीन विज्ञान व तकनीक विभाग के अंतर्गत राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक संचार परिषद् (NCSTC) का कार्यक्रम है। इस कांग्रेस में 10-17 आयुवर्ग के छात्र हिस्सा लेते हैं। इस इवेंट में छात्र अपनी क्रियात्मकता तथा नवोन्मेष का प्रदर्शन कर सकते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक संचार परिषद् (NCSTC)

राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक संचार परिषद् (NCSTC) का कार्य विज्ञान व तकनीक को लोगों तक पहुँचाना है। यह परिषद् विज्ञान व तकनीक के क्षेत्र में शोध तथा विज्ञान के प्रसार के लिए विभिन्न कार्यक्रमों को बढ़ावा देती है।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement