करेंट अफेयर्स– दिसंबर, 2018

भारत  ने जैव विविधता पर सम्मेलन को छठवीं राष्ट्रीय रिपोर्ट सौंपी

भारत ने 30 दिसम्बर, 2018 को जैव विविधता पर  सम्मेलन को अपनी छठवीं राष्ट्रीय रिपोर्ट सौंपी। इस रिपोर्ट को ऑनलाइन जैव विविधता पर सम्मेलन के सचिवालय को केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन सिंह द्वारा सबमिट किया गया। यह रिपोर्ट नई दिल्ली में राज्य जैव विविधता बोर्ड की 13वीं राष्ट्रीय बैठक के दौरान सबमिट की गयी। इसके साथ ही भारत इस रिपोर्ट को सबमिट करने वाला एशिया का पहला देश बन गया है। अंतर्राष्ट्रीय संधियों के लिए रिपोर्ट रिपोर्ट सबमिट करना अनिवार्य होता है। इस रिपोर्ट में भारत ने 12 राष्ट्रीय जैव विविधता लक्ष्यों को प्राप्त करने में अपनी प्रगति के बारे में जानकारी दी है। इस रिपोर्ट के अनुसार 1968 में शेरों की संख्या 177 थी जो 2015 में बढ़कर 520 हो गयी है। जबकि हाथियों की जनसँख्या 1968 में 12,000 से बढ़कर 30,000 हो गयी है। 20वीं शताब्दी के आरम्भ में भारत में एक सींग वाला गैंडा विलुप्त होने की कगार पर था, अब इसकी जनसँख्या बढ़कर 2400 हो गयी है।

भारत के 12 जैव विविधता लक्ष्य

  1. 2020 तक देश जनसँख्या के एक बड़े हिस्से को जैव विविधता के मूल्य के बारे में परिचित करवाना तथा इसका संरक्षण के लिए आवश्यक कदम उठाना।
  2. 2020 जैव विविधता के मूल्य को राष्ट्रीय तथा राज्य नियोजन प्रक्रिया, विकास कार्यक्रम व निर्धनता उन्मूलन योजना में शामिल करना।
  3. प्राकृतिक आवास के निम्नीकरण व क्षय पर रोक लगाने के योजना निर्माण करना।
  4. 2020 तक विदेशी प्रजातियों का प्रबंधन करना।
  5. 2020 तक कृषि, वानिकी व मतस्यपालन के सतत प्रबंधन के लिए आवश्यक कदम उठाना।
  6. देश में विभिन्न प्रजातियाँ के लिए महत्वपूर्ण स्थलों, तटीय व समुद्री जोन इत्यादि का संरक्षण, 2020 तक इसके तहत देश के कुल 20% क्षेत्रफल को कवर करना।
  7. जेनेटिक क्षरण को रोकने तथा जेनेटिक विविधता को बनाये रखने के लिए 2020 का योजना का निर्माण करना।
  8. 2020 पर पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं की सुरक्षा के लिए प्रावधान करना।
  9. 2015 तक नागोया प्रोटोकॉल के तहत जेनेटिक संसाधनों तक पहुँच तथा इसका समान लाभ सुनिश्चित करना।
  10. 2020 तक राष्ट्रीय जैव विविधता पर प्रभावशाली राष्ट्रीय एक्शन प्लान तैयार करना।
  11. 2020 तक जैव विविधता से सम्बंधित सामुदायिक पारंपरिक ज्ञान के द्वारा राष्ट्रीय अभियान को मजबूती प्रदान करना।
  12. जैव विविधता के लिए सामरिक योजना 2011-2020 के लिए वित्तीय, मानवीय तथा तकनीकी संसाधन उपलब्ध करवाना।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

बांग्लादेश आम चुनावी : प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व में आवामी लीग को मिली जीत

हाल ही में बांग्लादेश के आम चुनावों में सत्ताधारी आवामी लीग को बहुमत मिला। प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व में आवामी लीग को 299 में से 259 सीटों पर विजय मिली। जबकि मुख्य प्रतिद्वंदी दल बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी को मात्र 5 सीटें प्राप्त हुई। इस जीत के साथ शेख हसीना का प्रधानमंत्री बनने का मार्ग पुनः प्रशस्त हो गया है।

शेख हसीना

शेख हसीना बांग्लादेश की वर्तमान प्रधानमंत्री है, 2018 के आम चुनावों में जीत के बाद उनका प्रधानमंत्री बनने का मार्ग प्रशस्त हो गया है। वे 2009 से बांग्लादेश की प्रधानमंत्री हैं। शेख हसीना का जन्म 28 सितम्बर, 1947 को हुआ था। वे बांग्लादेश के पहले राष्ट्रपति शेख मुजीबुर रहमान की पुत्री हैं। वे पहली बार 23 जून, 1996 से 15 जुलाई, 2001 के बीच में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री बनीं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement