करेंट अफेयर्स– दिसंबर, 2018

फिल्मकार मृणाल सेन का निधन हुआ

प्रसिद्ध फ़िल्मकार मृणाल सेन का निधन 95 वर्ष की आयु में 30 दिसम्बर, 2018 को हुआ। उनकी अधिकतर फ़िल्में बंगाली भाषा में थीं। उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

मृणाल सेन

मृणाल सेन का जन्म 14 मई, 1923 को बंगाल प्रेसीडेंसी के फरीदपुर (अब बांग्लादेश) में हुआ था। वे बंगाली फिल्मों के प्रसिद्ध फिल्मकार थे। उन्हें फिल्मों में सामाजिक वास्तविकता तथा कलात्मक वर्णन के लिए जाना जाता है। उन्हें 1983 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उन्होंने अपनी पहली फीचर फिल्म “रात भोर” 1955 में बनायीं थी। उन्हें “नील आकाशेर नीचे” फिल्म से प्रसिद्धि मिली।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

अंडमान के तीन द्वीपों के नाम बदले गये

हाल  ही में अंडमान के रोस, नील तथा हेवलॉक द्वीप का नाम क्रमशः नेताजी सुभाष चन्द्र बोस द्वीप, शहीद द्वीप तथा स्वराज द्वीप किया गया। इस नाम परिवर्तन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 30 दिसम्बर को अंडमान की यात्रा के दौरान की गयी। 30 दिसम्बर को नेताजी की अंडमान यात्रा के 75 वर्ष पूरे हुए।

अंडमान द्वीप के साथ नेताजी का सम्बन्ध

नेताजी सर्वश्री आनंद मोहन सहाय, कैप्टेन रावत ADC तथा कर्नल DS राजू के साथ 29 दिसम्बर,1943 को पोर्ट ब्लेयर गये थे। नेताजी ने इंडियन नेशनल आर्मी जनरल AD लोगनाथन को इन द्वीपों का गवर्नर नियुक्त किया था।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान ने इन द्वीपों को अपने नियंत्रण में ले लिया था। नेताजी ने 30 दिसम्बर, 1943 को पोर्ट ब्लेयर में झंडा फहराया था। नेताजी मानते थे कि पोर्ट ब्लेयर ब्रिटिश शासन से स्वतंत्र होने वाला पहला क्षेत्र था। नेताजी ने अंडमान व निकोबार द्वीप का नाम शहीद और स्वराज द्वीप रखने का सुझाव दिया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement