करेंट अफेयर्स – फरवरी, 2019

डॉ दिव्या कर्नाड ने फ्यूचर फॉर नेचर 2019 अवार्ड जीता

अशोका विश्वविद्यालय की पर्यावरण अध्ययन की सहायक प्रोफेसर डॉ. दिव्या कर्नाड ने फ्यूचर फॉर नेचर 2019 अवार्ड जीता। उन्हें यह पुरस्कार समुद्री संरक्षण पर उनके कार्य के लिए दिया जा रहा है।

अन्य विजेता

ग्लोबल फ्यूचर फॉर नेचर अवार्ड 2019 के विजेता हैं : फर्नांडा अब्रा (ब्राज़ील) तथा ओलिविएर न्सेंगिमाना (रवांडा) हैं।

डॉ. दिव्या कर्नाड के इन सीजन फिश प्रोजेक्ट के कारण भारत में कोरोमंडल तट पर विलुप्तप्राय शार्क मछली के शिकार में कमी आई है। डॉ. दिव्या कर्नाड ने अमेरिका के रटगर्स विश्वविद्यालय से भूगोल में पीएचडी की है। उन्होंने वन्यजीव जैवविज्ञान व संरक्षण में मास्टर्स की डिग्री राष्ट्रीय जैवविज्ञान केंद्र, वन्यजीव अध्ययन केंद्र तथा भारतीय वन्यजीव संरक्षण सोसाइटी द्वारा चलाये जा रहे पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रम से प्राप्त की।

फ्यूचर फॉर नेचर अवार्ड

फ्यूचर फॉर नेचर अवार्ड “फ्यूचर फॉर नेचर फाउंडेशन” द्वारा प्रदान किया जाता है, यह पुरस्कार वन्य जीवों तथा पौधों की प्रजातियों के संरक्षण के लिए प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार का उद्देश्य है :

  • वन्यजीवों तथा पौधों के संरक्षण के लिए कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित करना तथा उन्हें फंडिंग प्रदान करना।
  • पुरस्कार विजेताओं को उनके कार्य को जारी रखने के लिए प्रेरित करना।
  • विजेताओं के लिए फंडिंग उपलब्ध करवाना।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स ने फ़्रांसिसी रक्षा कंपनी थेल्स को 2.75 इंच के राकेट लांचर के लिए आर्डर दिया

हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड ने फ़्रांसिसी एयरोस्पेस तथा रक्षा कंपनी थेल्स को 135 2.75 इंच (70 mm) के राकेट लांचर की आपूर्ति के लिए आर्डर दिया है। यह प्रमाणित, फील्ड प्रूवन, प्रतिस्पर्धात्मक राकेट लांचर हल्के तथा लड़ाकू हेलिकॉप्टर्स के लिए उपयुक्त हैं। इससे भारतीय सशस्त्र बलों की सामरिक क्षमता में वृद्धि होगी।

मुख्य बिंदु

भारतीय सेना को विभिन्न प्रकार के युद्ध क्षेत्रों में तैनात किया गया है, कुछ एक दूर-दराज के क्षेत्रों में पारंपरिक रक्षा उपकरणों का उपयोग नहीं किया जा सकता। ऐसे स्थानों के लिए नवीन उपकरणों की आवश्यता होती है।

यह 2.75 इंच के राकेट लांचर कम्पोजिट मटेरियल से बनाये जाते हैं, इस कारण यह अन्य धातु से बने लांचर के मुकाबले 50% हल्के होते हैं। इसमें जंग लगने की समस्या भी नही होती।

यह राकेट लांचर थालेस द्वारा उपलब्ध करवाए जायेंगे। इसमें 12 ट्यूब राकेट लांचर तथा T100 साईटिंग सिस्टम भी शामिल हैं। हेलीकाप्टर में लगाए जाने के बाद उनकी क्षमता में काफी वृद्धि होगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement