करेंट अफेयर्स - फरवरी, 2020

दूरसंचार विभाग ने लॉन्च की 5G हैकथॉन

दूरसंचार विभाग ने 5G हैकाथन लॉन्च कर दी है। इस       ‘5G हैकथॉन’ को दूरसंचार विभाग (DoT) ने सरकार, शिक्षाविदों और उद्योग हितधारकों के साथ मिलकर लॉन्च किया है।

इस हैकथॉन में अत्याधुनिक विचारों को शॉर्टलिस्ट करने किया जायेगा जिन्हें व्यावहारिक 5 जी उत्पादों और समाधानों में परिवर्तित किया जा सकता है। इस कार्यक्रम का समापन इस वर्ष 16 अक्टूबर को इंडिया मोबाइल कांग्रेस में एक भव्य समारोह में होगा। विभिन्न चरणों के विजेता 2.5 करोड़ रुपये के कुल पुरस्कार पूल को साझा करेंगे।

5G

5G वायरलेस संचार टेक्नोलॉजी थर्ड जनरेशन पार्टनरशिप प्रोजेक्ट (3GPP) पर आधारित है। यह 4G LTE के बाद मोबाइल नेटवर्क टेक्नोलॉजी का अगला चरण है। 5G टेक्नोलॉजी में डाउनलोड व अपलोड स्पीड मौजूदा 4G नेटवर्क से 100 गुना तेज़ होगी। इससे इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT), ऑगमेंटेड रियलिटी (AR) और वर्चुअल रियलिटी (VR) को बढ़ावा मिलेगा।

दिसम्बर, 2017 में 3GPP ने 5G रेडियो मानक का पहला सेट पूरा किया था। 5G की तेज़ गति के कारण क्लाउड सिस्टम से संगीत आसानी से स्ट्रीम किया जा सकेगा, इससे बिना चालक वाले वाहन को आसानी से नेविगेशन डाटा उपलब्ध करवाया जा सकेगा। आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस और इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के विकास में 5G की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

महाराष्ट्र सरकार ने “थाई मांगुर” मछली प्रजनन केंद्रों को नष्ट करने का आदेश दिया

21 फरवरी, 2020 को महाराष्ट्र सरकार ने थाई मांगुर मछली प्रजनन केंद्रों को नष्ट करने का आदेश दिया। इसका मुख्य कारण यह है कि इस मछली की खेती अस्वच्छ परिस्थितियों में की जाती है।

मुख्य बिंदु

महाराष्ट्र में इस मछली की प्रजाति को आमतौर पर थाई मांगुर या विदेशी मांगुर या अफ्रीकी मांगुर कहा जाता है। इस मछली की प्रजाति की खेती जिन अस्वच्छ परिस्थितियों में की जा रही है उससे लोग बीमार पड़ सकते हैं।

2000 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने थाई मांगुर की खेती पर प्रतिबंध लगा दिया था। अब तक महाराष्ट्र सरकार ने 32 टन थाई मंगूर को नष्ट कर दिया है।

थाई मांगुर

भारत में मांगुर मछली पर प्रतिबंध लगा दिया गया था क्योंकि यह मछली एक पारिस्थितिकी तंत्र में अन्य मछलियों के लिए खतरा बन गई थी। मुंबई में एक अध्ययन में स्पष्ट हुआ है कि मांगुर मछली के कारण स्थानीय मछली प्रजातियों में 70% की गिरावट आई है।

इतनी लोकप्रिय क्यों?

कई कमियों के बावजूद, मांगुर मछली की खेती और बिक्री इसकी जीवित रहने की क्षमता के लिए लोकप्रिय है। यह मछली 3 फीट से 5 फीट तक लंबी हो सकती है। यह मछली बारिश  में कीचड़ के पानी में भी जीवित रह सकती है। अन्य कारक जैसे सर्वाहारी आहार, भूमि पर जीवित रहने की क्षमता और वनस्पति में छिपने की क्षमता इस मछली की प्रजाति को खेती के लिए आसान और किफायती बनाते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

Advertisement