करेंट अफेयर्स - जनवरी, 2019

30 जनवरी : विश्व कुष्ठरोग उन्मूलन दिवस

30 जनवरी को विश्व कुष्ठरोग उन्मूलन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य कुष्ठरोग को समाप्त करना तथा कुष्ठरोग से पीड़ित लोगों के साथ होने वाले भेदभाव को समाप्त करना है। कुष्ठरोग से पीड़ित लोग सामाजिक भेदभाव के कारण अक्सर अवसाद का शिकार हो जाते हैं। इसके इलाज के लिए पीड़ित को मल्टी-ड्रग थेरेपी की आवश्यकता पड़ती है, इस थेरेपी के तहत पीड़ित को 6 माह से एक वर्ष तक दवाइयों का सेवन करना पड़ता है।

कुष्ठरोग

कुष्ठरोग एक संक्रामक बैक्टीरियल रोग है, यह मायकोबैक्टीरियम लेप्रे के कारण होगा है। यह रोग मुख्य रूप से त्वचा, सम्बंधित तंत्रिकाओं तथा आखों को प्रभावित करता है। भारत सरकार ने इस रोग को समाप्त करने के लिए राष्ट्रीय कुष्ठरोग निवारण कार्यक्रम शुरू किया है। भारत में अब कुष्ठरोग एक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या नहीं है, इसका अर्थ यह है कि देश में 10,000 लोगों में से 1 व्यक्ति से कम इस रोग से प्रभावित है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

राजीव चोपड़ा को NCC का महानिदेशक नियुक्त किया गया

हाल ही में लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चोपड़ा को राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) का महानिदेशक नियुक्त किया गया। उन्हें 2018 में अति विशिष्ट सेवा मैडल से सम्मानित किया गया था। वे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खडकवासला तथा इंडियन मिलिट्री अकैडमी देहरादून के पूर्व छात्र हैं।

राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC)

राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) भारतीय सैन्य कैडेट कोर है, इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसका आदर्श वाक्य “एकता और अनुशासन” है। यह स्कूलों तथा विश्वविद्यालयों में स्वैच्छिक आधार पर खुला होता है। यह एक त्रि-सेवा संगठन है। इसमें थल सेना, वायु सेना तथा नौसेना देशों के युवाओं को देशभक्त तथा अनुशासित नागरिक बनाने के लिए मिलकर कार्य करती हैं। इसमें देश भर के स्कूलों, महाविद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों से छात्रों को स्वैच्छिक आधार पर भर्ती किया जाता है। उन कैडेट्स को आधारभूत सैन्य प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। कोर्स पूरा करने के बाद उन पर सक्रीय सैन्य सेवा देने की बाध्यता नहीं होती। भारत में राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना 1948 के नेशनल कैडेट कोर अधिनियम के तहत की गयी थी।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement