करेंट अफेयर्स - जनवरी, 2019

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल राम्फोसा होंगे गणतंत्र दिवस 2019 में मुख्य अतिथि

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल राम्फोसा भारत के गणतंत्र दिवस 2019 समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। वे 25 और 26 जनवरी को भारत के दौरे पर रहेंगे। सायरिल राम्फोसा भारत की गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने वाले दूसरे दक्षिणी अफ्रीकी नेता होंगे। उनसे पहले 1995 में नेल्सन मंडेला भारत की गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुए थे।

मुख्य बिंदु

सायरिल राम्फोसा अपार्थीड विरोधी नेता तथा महात्मा गाँधी के अनुयायी हैं। वे दिसम्बर, 2017 में जैकब जुमा का इस्तीफे के बाद दक्षिण अफ्रीका के पांचवें राष्ट्रपति बने थे। अप्रैल, 2018 में उन्होंने “गाँधी वाक” नामक इवेंट में 5000 लोगों का नेतृत्व किया था। दक्षिण अफ्रीका भारत का एक महत्वपूर्ण सहयोगी तथा ब्रिक्स का सदस्य है। आमतौर पर भारत के गणतंत्र दिवस पर सामरिक रूप से महत्वपूर्ण देशों के राष्ट्राध्यक्षों को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया जाता है। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में बुलाये जाने के कयास जा रहे हैं। परन्तु अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घरेलु व्यस्ताओं के कारण कार्यक्रम में शामिल होने में असमर्थता प्रकट की थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

23 जनवरी : सुभाष चन्द्र बोस जयंती

23 जनवरी को महान स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर संसंद के सेंट्रल हॉल में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को श्रंद्धांजलि अर्पित की गयी।

सुभाष चन्द्र बोस

महान स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को ब्रिटिश भारत के कट्टक में हुआ था। आरंभ में वे कांग्रेस से जुड़े, 1938-39 के दौरान वे कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। बाद में कांग्रेस में मतभेद के कारण उन्होंने कांग्रेस से त्यागपत्र दिया तथा फॉरवर्ड ब्लॉक की स्थापना की। उन्होंने आजाद हिन्द फ़ौज के द्वारा देश को स्वतंत्र करने का प्रयास किया।

आजाद हिन्द फ़ौज की स्थापना 21 अक्टूबर, 1943 में सिंगापुर में की गयी थी। इसकी स्थापना निर्वासित भारतीयों द्वारा की गयी थी। इसकी स्थापना में रास बिहारी बोस की भूमिका काफी महत्वपूर्ण थी। इसकी स्थापना नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के विचारों से प्रेरित होकर की गयी थी। यह एक सशस्त्र सेना थी, जिसका उद्देश्य भारत को ब्रिटिश नियंत्रण से मुक्त करना था। सुभाष चन्द्र बोस इस फ़ौज के सर्वोच्च कमांडर थे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement