करेंट अफेयर्स - जनवरी, 2019

सीएनआर राव को शेख सौद अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा

पहला शेख सौद अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार सीएनआर राव को प्रदान किया जायेगा। उन्हें यह पुरस्कार 25 फरवरी को रस अल खैमाह में एडवांस्ड मैटेरियल्स पर अंतर्राष्ट्रीय वर्कशॉप के दौरान शेख सौद बिन सकर अल कासिमी द्वारा प्रदान किया जायेगा।

सीएनआर राव

चिंतामणी नागेश रामचंद्र राव (सीएनआर राव) भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक हैं, उन्होंने मटेरियल रिसर्च में काफी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। वे अब तक 1600 से अधिक शोध पत्र तथा 50 किताबें लिख चुके हैं। उन्होंने विशेष रूप से मेटल ऑक्साइड, इनोर्गानिक सॉलिड, मेटल-इंसुलेटर ट्रांजीशन, नैनो मैटेरियल्स, कृत्रिम प्रकाश संश्लेषण इत्यादि के शोध में काफी कार्य किया है।

उन्हें राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है, 1989 में उन्हें लन्दन में सोसाइटी ऑफ़ केमिस्ट्री ने मानद फ़ेलोशिप प्रदान की थी। फ्रांस ने उन्हें 2005 में शेवालिएर डी ला लीजन डी’हॉनर से सम्मानित किया था। 1974 में उन्हें पद्म श्री, 1985 में पद्म विभूषण, 2001 में कर्नाटक रत्न तथा 2014 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

प्रधानमंत्री मोदी ने हजीरा में किया K9 वज्र सेल्फ-प्रोपेल्ड होवित्ज़र तोप के निर्माण कारखाने का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में सूरत के निकट हजीरा में लार्सेन एंड टुब्रो द्वारा निर्मित आर्मरड सिस्टम्स काम्प्लेक्स का उद्घाटन किया। इस काम्प्लेक्स में K9 वज्र सेल्फ-प्रोपेल्ड होवित्ज़र तोपों का निर्माण किया जायेगा।

K9 वज्र सेल्फ-प्रोपेल्ड होवित्ज़र तोप

  • इस तोप का भार 50 टन है, यह 43 किलोमीटर दूर लक्ष्य पर 47 किलोग्राम के बम दाग कर ध्वस्त कर सकता है।
  • यह 0 त्रिज्या पर गोल घूम सकती है।
  • K9 वज्र K9 के विशेष वैरिएंट है, इसका निर्माण पाकिस्तान के साथ लगते सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए किया जा रहा है।

मेक इन इंडिया – रक्षा

हजीरा में लार्सेन एंड टुब्रो द्वारा निर्मित आर्मरड सिस्टम्स काम्प्लेक्स रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया का प्रमुख उदाहरण है।  K9 वज्र सेल्फ-प्रोपेल्ड होवित्ज़र तोप का निर्माण लार्सेन एंड टुब्रो द्वारा किया जा रहा है। इसके लिए लार्सेन एंड टुब्रो ने दक्षिण कोरियाई कंपनी हानवा कारपोरेशन के साथ तकनीक हस्तांतरण के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। इस तोप के लगभग 13,000 कल पुर्जों के निर्माण में लगभग 400 सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योग शामिल हैं। यह स्वदेशीकरण की दिशा में बड़ा कदम है।  अब भारतीय सेना को स्पेयर पार्ट्स के लिए अन्य देशों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। इसके अलावा लागत में भी काफी कमी आएगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement