करेंट अफेयर्स - जनवरी, 2019

सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने लांच की साझा डिजिटल करेंसी अबेर

हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब के केन्द्रीय बैंकों ने “अबेर” नामक साझा डिजिटल मुद्रा को लांच किया। इस डिजिटल मुद्रा का उपयोग दोनों देशों के बीच ब्लॉकचेन तथा डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी के बीच वित्तीय भुगतान के लिए किया जायेगा।

डिजिटल मुद्रा के लाभ

इस डिजिटल मुद्रा के द्वारा वित्तीय विनिमय के लिए एक और विकल्प होगा। शुरू में इस मुद्रा का उपयोग सीमित बैंकों में किया जायेगा। इस मुद्रा की तकनीकी, आर्थिक तथा कानूनी आवश्यकता का अध्ययन करने के बाद इस मुद्रा के उपयोग का विस्तार किया जायेगा।

डिजिटल मुद्रा अबेर केन्द्रीय बैंक तथा अन्य बैंकों के बीच डिस्ट्रिब्यूटेड डाटा के उपयोग पर निर्भर है। यह ब्लॉकचेन पर आधारित होती है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी

ब्लॉकचेन एक प्रकार का डिजिटल बही खाता है, इसमें डाटा क्लाउड में सुरक्षित रखा जाता है। यह डाटा स्टोरेज की सुरक्षित प्रणाली है। इसमें डाटा को कॉपी किये बिना विकेंद्रीकृत किया जाता है। यह काफी सुरक्षित व पारदर्शी है। इस टेक्नोलॉजी का उपयोग क्रिप्टोकरेंसी में बड़े पैमाने पर किया जाता है। इसके अलावा वित्तीय लेन-देन, क्राउड-फंडिंग, गवर्नेंस, फाइल स्टोरेज और इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स इत्यादि में इसका उपयोग किया जाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Month:

Tags: , , , , , , ,

भ्रष्टाचार अवधारणा सूचकांक 2018  में भारत का प्रदर्शन

हाल ही में ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल ने भ्रष्टाचार अवधारणा सूचकांक 2018 जारी किया। इस सूचकांक का निर्माण भारत के सार्वजनिक क्षेत्र तथा न्यायपालिका में व्याप्त भ्रष्टाचार सन्दर्भ में विशेषज्ञों तथा बिज़नेस एग्जीक्यूटिव्स की अवधारणा के आधार पर किया गया है। इसके मुख्य बिंदु निम्नलिखित हैं :

इस सूचकांक को विश्व भर में भ्रष्टाचार के सूचक के रूप में उपयोग किया जाता है, इसमें बिज़नेस सेक्टर के भ्रष्टाचार को शामिल नहीं किया जाता। इस सूचकांक में 180 से अधिक देशों को शामिल किया गया है, इसमें देशों को 0-100 के बीच में स्कोर दिया जाता है। इस सूचकांक में 0 स्कोर वाले देश को अत्यधिक भ्रष्ट जबकि 100 अंक वाले देश को ईमानदार माना जाता है।

भ्रष्टाचार अवधारणा सूचकांक 2018  में भारत का प्रदर्शन

  • 2017 में भारत का स्कोर इस सूचकांक में 41 था, इस वर्ष भारत का स्कोर 41 है।
  • 2017 में भारत की रैंकिंग 81वीं थीं, जबकि 2018 में भारत को 78वां स्थान प्राप्त हुआ है।
  • 2016 में भारत का स्थान 79वां था।
  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत, मलेशिया, मालदीव और पाकिस्तान की भविष्य की गतिविधियाँ काफी महत्वपूर्ण होंगी।
  • उपरोक्त देशों में पिछले कुछ समय में भ्रष्टाचार के विरुद्ध जन आन्दोलन हुए हैं तथा जिन राजनीतिक दलों ने भ्रष्टाचार को कम करने के लिए वादे किये उनके पक्ष में जनता ने काफी मतदान किया है।
  • हालांकि इन देशों में अभी भ्रष्टाचार को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है।
  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011 में भारत में भ्रष्टाचार के विरुद्ध आन्दोलन काफी प्रभावशाली थी, परन्तु अभी तक जन लोकपाल के सन्दर्भ में कोई विशेष प्रगति नहीं हुई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement