करेंट अफेयर्स - जुलाई, 2018

पश्चिम बंगाल के धान में बढ़ रहा है आर्सेनिक प्रदूषण : अध्ययन

हाल ही में किये गए एक अध्ययन के अनुसार बंगाल के धान में आर्सेनिक प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है। आर्सेनिक जमाव धान के प्रकार और फसल चक्र की स्टेज पर निर्भर करता है।

मुख्य बिंदु

यह अध्ययन उपभोग किये जाने वाले दो प्रमुख प्रकार – मिनीकिट और जया पर किया गया। इस अध्ययन में यह पाया गया कि ‘जया’ आर्सेनिक के प्रति अधिक प्रतिरोधी है। इस अध्ययन में वह सभी प्रक्रियाएं दर्शायी गयी हैं जिनसे सिंचाई के द्वारा आर्सेनिक का संचरण होता है।

इस अध्ययन में पाया गया आर्सेनिक प्रदूषण अन्य पुराने अध्ययनों से काफी अधिक है। इस अध्ययन के अनुसार आर्सेनिक की मात्रा धान की जड़ में अधिक होती है, यह मात्रा धान के प्रकार के अनुसार भिन्न-भिन्न होती है। धान के शुरूआती 28 दिनों में आर्सेनिक की मात्रा सबसे अधिक थी, जबकि दूसरे चरण (29-56 दिन) के दौरान यह कम थी, इसके बाद धान पकने के दौरान आर्सेनिक का स्तर पुनः बढ़ गया।

आर्सेनिक विषाक्तीकरण  

आर्सेनिक पृथ्वी की उपरी सतह पर पाया जाने वाला प्राकृतिक तत्व है। यह अजैविक अवस्था में काफी विषैला होता है। लम्बे समय तक घुलनशील अजैविक आर्सेनिक के शरीर में जाने से अर्सेनिकोसिस, डायबिटीज तथा कैंसर जैसी बीमारियाँ हो सकती हैं। भारत में पश्चिम बंगाल और उसके पड़ोसी राज्यों में आर्सेनिक प्रदूषण की समस्या काफी बड़ी है। पश्चिम बंगाल के 8 जिलों के 83 खंड में भूमिगत जल आर्सेनिक से दूषित है। मालदा, मुर्शिदाबाद और नादिया जिलों में आर्सेनिक का स्तर सर्वाधिक है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

29 जुलाई : अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस

अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस प्रतिवर्ष 29 जुलाई को मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 2010 में सेंट पीटर्सबर्ग में आयोजित टाइगर समिट से हुई थी। इसका उद्देश्य बाघ के प्राकृतिक आवास को सुरक्षित करना व बाघ संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाना है।

मुख्य बिंदु

WWF के अनुसार 2016 में विश्व भर में बाघ की जनसँख्या लगभग 3900 है। भारत ने बाघ संरक्षण के लिए काफी सराहनीय कार्य किया है, वर्ष 2006 में केवल 1411 बाघ थे जो 2014 में बढ़कर 2226 हो गये। भारत में प्रत्येक चार वर्ष बाद बाघ की गणना की जाती है।

वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फण्ड फॉर नेचर (WWF)

वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फण्ड फॉर नेचर एक अंतर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन है, यह संगठन वन्य जीवों के संरक्षण के लिए कार्य करता है। इसकी स्थापना 29 अप्रैल, 1961 को की गयी थी। इसका मुख्यालय स्विट्ज़रलैंड के रुए मौवेर्नी में स्थित है। इस संगठन का उद्देश्य वन्यजीवों का संरक्षण तथा पर्यावरण पर मानव के प्रभाव को कम करना है। WWF वर्ष1998 से प्रत्येक दो वर्ष बाद लिविंग प्लेनेट रिपोर्ट प्रकाशित करता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

Advertisement