करेंट अफेयर्स – जुलाई, 2019

बांग्देलादेश के वैज्ञानिकों ने जूट के रेशे को कम लागत वाली बायोडिग्रेडेबल सेल्यूलोस शीट में परिवर्तित करने का तरीका विकसित किया

बांग्लादेश के वैज्ञानिकों ने जूट के रेशे को कम लागत वाली बायोडिग्रेडेबल सेल्यूलोस शीट में परिवर्तित करने का तरीका विकसित किया। इस बायोडिग्रेडेबल शीट को “सोनाली” नाम दिया गया है।

भारत के बाद बांग्लादेश विश्व का दूसरा सबसे बड़ा जूट उत्पादक देश है।

इसका उपयोग सामान को लपेटने तथा कैरी बैग के रूप में किया जा सकता है। यह एको फ्रेंडली पाली बैग कपड़े तथा खाद्य पदार्थ की पैकेजिंग के लिए उपयोग किये जा सकते हैं, इससे मानव स्वास्थ्य को किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं होता। इस वर्ष के अंत तक इन बैग्स का वाणिज्यिक उत्पादन शुरू हो जायेगा। इन बैग्स के उत्पादन में मुख्य चुनौती उच्च उत्पादन लागत है, इन बैग्स की उत्पादन लागत पॉलिथीन बैग्स से लगभग दुगनी है। परन्तु बड़े पैमाने पर उत्पादन किये जाने के बाद लागत कम हो जाएगी।

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

अंतर-मंत्रिस्तरीय समिति ने निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबन्ध लगाने की सिफारिश की

क्रिप्टोकरेंसी तथा ब्लॉकचेन की वैधता का विश्लेषण करने के लिए गठित अंतर-मंत्रिस्तरीय समिति ने हाल ही में अपनी रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंप दी है, इस अमिति ने देश में निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबन्ध लगाने की सिफारिश की है। इस समिति ने Banning of Cryptocurrency & Regulation of Official Digital Currency Bill, 2019 नामक कानून का मसौदा भी तैयार किया है। इसमें 10 वर्ष कारावास की सजा तथा जुर्माने का प्रावधान है। इस समिति की अध्यक्षता आर्थिक मामले सचिव सुभाष चन्द्र गर्ग द्वारा की गयी। इस ड्राफ्ट में कहा गया है कि क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग, उत्पादन, खरीद-फरोख्त करने वाले व्यक्ति को 1 से 10 वर्ष के कारावास की सजा दी जा सकती है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की डिजिटल मुद्रा है। यह मुद्रा भौतिक रूप में उपलब्ध नहीं होती, यह केवल आभासी मुद्रा (वर्चुअल करेंसी) है। इसका उपयोग लेन-देन के लिए किया जाता है। इसके लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है। बिटकॉइन, इथीरियम, रिप्पल, लाइटकॉइन इत्यादि कुछ प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी हैं। बिटकॉइन को विश्व की पहली क्रिप्टोकरेंसी माना जाता है, इसकी शुरुआत वर्ष 2009 में हुई थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement